World hindi conference s jaishankar fijis prime minister sitivenki rabuka mentioned the film sholay said ye dosti ham nahi todenge

0
92

हाइलाइट्स

फिजी में 15 से 17 फरवरी तक आयोजित हुआ विश्व हिंदी सम्मेलन
नाडी में हुए सम्मेलन में 30 देशों के हिंदी विद्वानों ने लिया हिस्सा
फिजी ने भारत के साथ सांस्कृतिक रिश्तों को मजबूत करने पर दिया जोर

फिजी: भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर (S jaishankar) ने उम्मीद जताई है कि विश्व हिंदी सम्मेलन (World Hindi Conference) आने वाले समय में हिंदी का महाकुंभ बनेगा. यह हिंदी को विश्व भाषा बनाने में लगे हिंदी प्रेमियों को महत्वपूर्ण मंच उपलब्ध कराएगा. फिजी (Fiji) के नाडी (Nadi) में आयोजित 12वें विश्व हिंदी सम्मेलन के समापन समारोह को संबोधित करते हुए विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा कि हिंदी को विश्व भाषा बनाने का लक्ष्य प्राप्त करने के यह जरूरी है कि सभी हिंदी प्रेमी मिलजुल कर काम करें.

फिजी के इस प्रमुख शहर में 15 से 17 फरवरी तक तीन दिन चले सम्मेलन में तीस से अधिक देशों के एक हजार से अधिक हिंदी विद्वानों और लेखकों ने भाग लिया. समापन समारोह में फिजी के उप प्रधानमंत्री बिमान प्रसाद भी मौजूद थे और उन्होंने सम्मेलन को फिजी के लिए ऐतिहासिक बताते हुए कहा कि प्रधानमंत्री सितवेनी रबूका के नेतृत्व वाली सरकार देश में हिंदी को मज़बूत करने के लिए सभी संभव कदम उठा रही है.

पढ़ें- विश्व हिंदी सम्मेलन में जयशंकर से मिले फिजी के पीएम राबुका, चीन की चर्चा पर कहा- पीठ पीछे बात करना ठीक नहीं

फिजी के प्रधानमंत्री ने किया शोले का जिक्र
अपने राजनीतिक विरोधियों पर निशाना साधते हुए बिमान प्रसाद ने टिप्पणी की कि पिछले 10-15 वर्षों में हिंदी को यहां कमजोर करने की कोशिशें की गईं. जयशंकर ने फिजी नेतृत्व से बुधवार को हुई चर्चा का हवाला देते हुए कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री रबूका को आश्वस्त किया है कि भारत फिजी के साथ सांस्कृतिक संबंधों को और मजबूती देने के लिए कदम उठाएगा.
” isDesktop=”true” id=”5398155″ >

एस जयशंकर ने खुलासा किया कि प्रधानमंत्री रबूका ने दोनों देशों के बीच दोस्ती की तुलना के लिए सत्तर के दशक में आई बॉलीवुड की बेहद लोकप्रिय फिल्म ‘शोले’ का जिक्र किया. विदेश मंत्री के अनुसार, प्रधानमंत्री रबूका ने उन्हें बताया कि ‘शोले’ उनकी सबसे पसंदीदा फिल्म है और उसका गाना ‘ये दोस्ती, हम नहीं तोड़ेंगे …. ’ उन्हें विशेष रूप से प्रिय है. समापन समारोह में देश-विदेश में हिंदी के प्रचार, प्रसार व विकास के लिए काम कर रहे 25 विद्वानों व संस्थाओं को सम्मानित भी किया गया. विदेश राज्य मंत्री वी मुरलीधर ने बताया कि सम्मेलन के दौरान दस सत्रों में विभिन्न मसलों पर गंभीर चर्चा हुई और यह निष्कर्ष निकल कर आया कि हिंदी काफी सशक्त भाषा है और तकनीक के साथ सामंजस्य बैठाने में सक्षम है.

Tags: Fiji, Hindi, World news

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here