The Weather Hit The Tourism Business In Hillsqueen Shimla, Booking Decreased – Tourism Shimla: हिल्सक्वीन शिमला में पर्यटन कारोबार पर मौसम की मार, बुकिंग घटी

0
15

ख़बर सुनें

मौसम की मार से हिल्सक्वीन शिमला में पर्यटन कारोबार बुरी तरह प्रभावित हुआ है। भारी बारिश से हिमाचल में हो रहे नुकसान की खबरें राष्ट्रीय मीडिया में सुर्खियां बनने से सैलानी शिमला का रुख करने से डर रहे हैं।  शहर के पर्यटन कारोबारियों को कोरोना काल के बाद इस साल मानसून सीजन में भी सैलानियों की भारी आमद की उम्मीद थी लेकिन वीकेंड पर होटलों के महज 20 से 25 फीसदी कमरे ही बुक हो रहे हैं। ट्रेवल एजेंट्स एसोसिएशन शिमला के महासचिव मनु सूद ने बताया कि 20 दिन से शिमला के लिए एडवांस बुकिंग पूरी तरह बंद है। बारिश से हो रहे नुकसान के बाद टूरिस्ट ने शिमला सहित प्रदेश के अन्य पर्यटन स्थलों का रुख करना कम कर दिया है।

कोरोनाकाल के बाद इस साल सैलानियों की आमद में इजाफे की उम्मीद थी लेकिन भारी बारिश ने उम्मीदों पर पानी फेर दिया है। टूरिज्म इंडस्ट्री स्टेक होल्डर्स एसोसियेशन के अध्यक्ष महेंद्र सेठ ने कहा कि कोरोनाकाल से पहले मानसून सीजन में भी वीकेंड पर 50 फीसदी तक कमरे बुक रहते थे, इस साल भारी बारिश से हुए नुकसान के बाद सैलानियों की आवाजाही में कमी आई है। राष्ट्रीय मीडिया में नुकसान की खबरों के कारण सैलानी घरों से निकलने में परहेज कर रहे हैं।

विस्तार

मौसम की मार से हिल्सक्वीन शिमला में पर्यटन कारोबार बुरी तरह प्रभावित हुआ है। भारी बारिश से हिमाचल में हो रहे नुकसान की खबरें राष्ट्रीय मीडिया में सुर्खियां बनने से सैलानी शिमला का रुख करने से डर रहे हैं।  शहर के पर्यटन कारोबारियों को कोरोना काल के बाद इस साल मानसून सीजन में भी सैलानियों की भारी आमद की उम्मीद थी लेकिन वीकेंड पर होटलों के महज 20 से 25 फीसदी कमरे ही बुक हो रहे हैं। ट्रेवल एजेंट्स एसोसिएशन शिमला के महासचिव मनु सूद ने बताया कि 20 दिन से शिमला के लिए एडवांस बुकिंग पूरी तरह बंद है। बारिश से हो रहे नुकसान के बाद टूरिस्ट ने शिमला सहित प्रदेश के अन्य पर्यटन स्थलों का रुख करना कम कर दिया है।

कोरोनाकाल के बाद इस साल सैलानियों की आमद में इजाफे की उम्मीद थी लेकिन भारी बारिश ने उम्मीदों पर पानी फेर दिया है। टूरिज्म इंडस्ट्री स्टेक होल्डर्स एसोसियेशन के अध्यक्ष महेंद्र सेठ ने कहा कि कोरोनाकाल से पहले मानसून सीजन में भी वीकेंड पर 50 फीसदी तक कमरे बुक रहते थे, इस साल भारी बारिश से हुए नुकसान के बाद सैलानियों की आवाजाही में कमी आई है। राष्ट्रीय मीडिया में नुकसान की खबरों के कारण सैलानी घरों से निकलने में परहेज कर रहे हैं।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here