Nine Meters High Sloping Tunnel, Will Be Paved With Concrete – Shimla: ढली में नौ मीटर ऊंची बनकर तैयार हुई ढली टनल, कंक्रीट से की जाएगी पक्की

0
21

ढली टनल

ढली टनल
– फोटो : संवाद

ख़बर सुनें

हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला के ढली में बन रही डबललेन टनल की ऊंचाई बढ़ाने के लिए चल रही खुदाई पूरी हो गई है। डेढ़ महीने से गहराई की ओर चल रहा खुदाई का काम रविवार शाम लगभग पूरा हो गया है। अब एक दो दिन के भीतर टनल में कंकरीटिंग का काम शुरू किया जाएगा। स्मार्ट सिटी मिशन में बन रही 147 मीटर लंबी इस टनल को वाहनों के लिए अगले साल मार्च तक खोलने का लक्ष्य रखा गया है। डेढ़ महीने पहले टनल के दोनों छोर से चल रही खुदाई पूरी हुई थी। इसके बाद ऊंचाई बढ़ाने के लिए गहराई की ओर खुदाई की गई है।

अब टनल की ऊंचाई 9 मीटर हो गई है। प्रोजेक्ट का काम देख रही कंपनी का कहना है कि अब ऊंचाई या चौड़ाई बढ़ाने के लिए खुदाई नहीं होगी। अब दीवारों, फर्श और छत की ओर मजबूती देने के लिए कंकरीटिंग की जाएगी। नई टनल बनने से संजौली और ढली के बीच वाहनों की आवाजाही सुचारू हो जाएगी। अभी पुरानी टनल से वाहनों की आवाजाही हो रही है। करीब 150 साल पुरानी यह टनल तंग है और इसमें एक तरफ ही वाहनों की आवाजाही हो पाती है। इससे सुबह शाम संजौली और ढली की ओर लंबा जाम लगा रहता है। अब डबल लेन टनल बनने से यहां जाम नहीं लगेगा ओर दोनों ओर से वाहनों की आवाजाही हो सकेगी।

सर्दी के चलते काम में हो सकती है देरी
अब टनल का निर्माण दो शिफ्टों में चल रहा है। दिन रात टनल की खुदाई की गई जिससे यह प्रोजेक्ट एक साल के भीतर पूरा हो सकता है। हालांकि, अब सर्दी के मौसम में काम की रफ्तार धीमी पड़ सकती है। कंपनी के अनुसार अब टनल के बाहर भी सड़क का काम होना है। यदि बर्फबारी होती है तो ऐसे में बाहर का काम पूरा करने में देरी हो सकती है। फिलहाल मार्च तक हर हाल में इसका काम पूरा करने की तैयारी चल रही है।

विस्तार

हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला के ढली में बन रही डबललेन टनल की ऊंचाई बढ़ाने के लिए चल रही खुदाई पूरी हो गई है। डेढ़ महीने से गहराई की ओर चल रहा खुदाई का काम रविवार शाम लगभग पूरा हो गया है। अब एक दो दिन के भीतर टनल में कंकरीटिंग का काम शुरू किया जाएगा। स्मार्ट सिटी मिशन में बन रही 147 मीटर लंबी इस टनल को वाहनों के लिए अगले साल मार्च तक खोलने का लक्ष्य रखा गया है। डेढ़ महीने पहले टनल के दोनों छोर से चल रही खुदाई पूरी हुई थी। इसके बाद ऊंचाई बढ़ाने के लिए गहराई की ओर खुदाई की गई है।

अब टनल की ऊंचाई 9 मीटर हो गई है। प्रोजेक्ट का काम देख रही कंपनी का कहना है कि अब ऊंचाई या चौड़ाई बढ़ाने के लिए खुदाई नहीं होगी। अब दीवारों, फर्श और छत की ओर मजबूती देने के लिए कंकरीटिंग की जाएगी। नई टनल बनने से संजौली और ढली के बीच वाहनों की आवाजाही सुचारू हो जाएगी। अभी पुरानी टनल से वाहनों की आवाजाही हो रही है। करीब 150 साल पुरानी यह टनल तंग है और इसमें एक तरफ ही वाहनों की आवाजाही हो पाती है। इससे सुबह शाम संजौली और ढली की ओर लंबा जाम लगा रहता है। अब डबल लेन टनल बनने से यहां जाम नहीं लगेगा ओर दोनों ओर से वाहनों की आवाजाही हो सकेगी।

सर्दी के चलते काम में हो सकती है देरी

अब टनल का निर्माण दो शिफ्टों में चल रहा है। दिन रात टनल की खुदाई की गई जिससे यह प्रोजेक्ट एक साल के भीतर पूरा हो सकता है। हालांकि, अब सर्दी के मौसम में काम की रफ्तार धीमी पड़ सकती है। कंपनी के अनुसार अब टनल के बाहर भी सड़क का काम होना है। यदि बर्फबारी होती है तो ऐसे में बाहर का काम पूरा करने में देरी हो सकती है। फिलहाल मार्च तक हर हाल में इसका काम पूरा करने की तैयारी चल रही है।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here