Manali Accident: Angry Villagers Hanged Officers On Jhula Bridge Due To Non-construction Of Bridge – मनाली हादसा: ग्रामीणों के डर से झूला पुल की रस्सी काटकर हवा में लटके रहे दो अफसर

0
16

ख़बर सुनें

हिमाचल प्रदेश के कुल्लू जिले के मनाली के सोलंग में दो किशोरों के ब्यास नदी में बहने के बाद मौके का जायजा लेने आए लोक निर्माण विभाग के दो अफसरों को ग्रामीणों के विरोध का सामना करना पड़ा। ये दोनों इतना डर गए कि खुद ही झूला पुल का रस्सा काट दिया और तीन घंटे तक नदी के ऊपर बने झूला पुल के बीचोंबीच लटके रहे।  घटना का पता चलते ही एसडीएम मनाली मौके पर पहुंचे। उन्होंने ग्रामीणों को शांत करने का प्रयास किया, लेकिन वे लोक निर्माण विभाग के बड़े अधिकारी के मौके पर आने की मांग पर अड़े रहे।

तीन घंटे के बाद कुल्लू से अधीक्षण अभियंता केके शर्मा मौके पर पहुंचे। उन्होंने ग्रामीणों को लिखित आश्वासन दिया कि तीन महीने में निर्माणाधीन पुल का काम पूरा कर लिया जाएगा। इसके बाद ग्रामीण शांत हुए। नदी के उस पार ग्रामीण युवाओं ने रस्सी फेंकी और फिर काटे गए रस्से को जोड़कर दोनों अधिकारियों को गांव की तरफ ले जाया गया। हालांकि, यहां भी कुछ युवाओं ने अधिकारियों को मालाएं पहनाकर दुर्व्यवहार किया।  

दरअसल,  कुल्लू के सोलंग गांव को जोड़ने के लिए बनी लकड़ी की पुलिया के साथ दो किशोरों के बह जाने के बाद लोगों के सब्र का बांध टूट गया। मंगलवार को अधिकारी झूले की मरम्मत और पुल के निर्माण का जायजा लेने पहुंचे थे। ग्रामीणों का कहना है कि सात साल से गांव के लिए पुल बन रहा है, लेकिन कार्य पूरा नहीं हो रहा। गांव के लिए बनाई गई सड़क के तमाम डंगे भी ढह गए हैं जिसकी वजह से उन्हें आज यह प्रदर्शन करना पड़ा। 

ग्रामीण निर्माणाधीन पुल के निर्माण में हो रही देरी से खफा थे। ग्रामीणों ने झूले में लटके अधिकारियों के खिलाफ शिकायत भी दर्ज करवाई है, जिसकी जांच की जाएगी।– डॉ. सुरेंद्र ठाकुर, एसडीएम मनाली

चार दिन पहले ही लकड़ी का बनाई थी अस्थायी पुलिया
ब्यास के तेज बहाव से टूटी अस्थायी पुलिया चार दिन पहले ही बनाई गई थी। इस पुलिया से सोलंग गांव को जोड़ा गया था। ब्यास नदी में आई बाढ़ ने जहां इस पुलिया को तोड़ दिया वहीं इसे पार कर रहे दो किशोर भी बह गए। इससे दोनों की मौत हो गई। दोनों किशोर मेले से लौट रहे थे। मंगलवार को प्रशासन ने एक किशोर का शव बाहंग के पास बरामद किया, जबकि दूसरे किशोर का आधा शव मिला है। उसके दूसरे हिस्से की तलाश के लिए प्रशासन और पुलिस का सर्च ऑपरेशन जारी है। करीब चार दिन पहले ही नदी के ऊपर अस्थाई पुलिया का निर्माण किया गया था। सोमवार को दिनभर बारिश से ब्यास उफान पर आ गई। दोपहर के समय सोलंग से लौटते वक्त कुछ लोग पुलिया को पार कर रहे थे। अचानक नदी के तेज बहाव से पुलिया ढह गई। इस हादसे में तीन लोग किसी तरह से नदी तट की ओर निकल गए, लेकिन दो किशोर पुलिया के साथ बह गए। इसका वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हुआ। सूचना मिलते ही उपमंडलाधिकारी मनाली डॉ. सुरेंद्र ठाकुर और उप पुलिस अधीक्षक मनाली हेम राज वर्मा मौके पर पहुंचे। प्रशासन ने दोनों किशोरों की तलाश के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू किया। देर शाम तक तीन टीमें बनाकर किशोरों की तलाश की गई, लेकिन कोई पता नहीं चल पाया।

 

मंगलवार सुबह 6:00 बजे प्रशासन ने फिर रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया। रेस्क्यू टीम को सोलंगनाला के पास सोलंग वैली रिजार्ट के समीप एक किशोर का आधा शव मिला। दूसरे किशोर का शव बांहग के पास बरामद हुआ। पुलिस और अग्निशमन विभाग के कर्मियों ने नदी के बीचोंबीच फंसे शव को बाहर निकाला। किशोरों की पहचान कृष्ण (13) पुत्र हीरा लाल निवासी गौशाल और राहुल (17) पुत्र हरी राम निवासी बटाहर के रूप में हुई है। 

परिजनों को सौंपा राहुल का शव
राहुल का शव परिजनों को सौंप दिया है, जबकि कृष्ण के शरीर का आधा हिस्सा ही मिल पाया है। उसके दूसरे हिस्से की तलाश जारी है। इसमें प्रशासन के साथ लोग, युवक मंडल और महिला मंडल मदद कर रहे हैं। पीड़ित परिवारों को 50-50 हजार रुपये की फौरी दी गई है। -डॉ. सुरेंद्र ठाकुर, उपमंडलाधिकारी मनाली।

विस्तार

हिमाचल प्रदेश के कुल्लू जिले के मनाली के सोलंग में दो किशोरों के ब्यास नदी में बहने के बाद मौके का जायजा लेने आए लोक निर्माण विभाग के दो अफसरों को ग्रामीणों के विरोध का सामना करना पड़ा। ये दोनों इतना डर गए कि खुद ही झूला पुल का रस्सा काट दिया और तीन घंटे तक नदी के ऊपर बने झूला पुल के बीचोंबीच लटके रहे।  घटना का पता चलते ही एसडीएम मनाली मौके पर पहुंचे। उन्होंने ग्रामीणों को शांत करने का प्रयास किया, लेकिन वे लोक निर्माण विभाग के बड़े अधिकारी के मौके पर आने की मांग पर अड़े रहे।

तीन घंटे के बाद कुल्लू से अधीक्षण अभियंता केके शर्मा मौके पर पहुंचे। उन्होंने ग्रामीणों को लिखित आश्वासन दिया कि तीन महीने में निर्माणाधीन पुल का काम पूरा कर लिया जाएगा। इसके बाद ग्रामीण शांत हुए। नदी के उस पार ग्रामीण युवाओं ने रस्सी फेंकी और फिर काटे गए रस्से को जोड़कर दोनों अधिकारियों को गांव की तरफ ले जाया गया। हालांकि, यहां भी कुछ युवाओं ने अधिकारियों को मालाएं पहनाकर दुर्व्यवहार किया।  

दरअसल,  कुल्लू के सोलंग गांव को जोड़ने के लिए बनी लकड़ी की पुलिया के साथ दो किशोरों के बह जाने के बाद लोगों के सब्र का बांध टूट गया। मंगलवार को अधिकारी झूले की मरम्मत और पुल के निर्माण का जायजा लेने पहुंचे थे। ग्रामीणों का कहना है कि सात साल से गांव के लिए पुल बन रहा है, लेकिन कार्य पूरा नहीं हो रहा। गांव के लिए बनाई गई सड़क के तमाम डंगे भी ढह गए हैं जिसकी वजह से उन्हें आज यह प्रदर्शन करना पड़ा। 

ग्रामीण निर्माणाधीन पुल के निर्माण में हो रही देरी से खफा थे। ग्रामीणों ने झूले में लटके अधिकारियों के खिलाफ शिकायत भी दर्ज करवाई है, जिसकी जांच की जाएगी।– डॉ. सुरेंद्र ठाकुर, एसडीएम मनाली

चार दिन पहले ही लकड़ी का बनाई थी अस्थायी पुलिया

ब्यास के तेज बहाव से टूटी अस्थायी पुलिया चार दिन पहले ही बनाई गई थी। इस पुलिया से सोलंग गांव को जोड़ा गया था। ब्यास नदी में आई बाढ़ ने जहां इस पुलिया को तोड़ दिया वहीं इसे पार कर रहे दो किशोर भी बह गए। इससे दोनों की मौत हो गई। दोनों किशोर मेले से लौट रहे थे। मंगलवार को प्रशासन ने एक किशोर का शव बाहंग के पास बरामद किया, जबकि दूसरे किशोर का आधा शव मिला है। उसके दूसरे हिस्से की तलाश के लिए प्रशासन और पुलिस का सर्च ऑपरेशन जारी है। करीब चार दिन पहले ही नदी के ऊपर अस्थाई पुलिया का निर्माण किया गया था। सोमवार को दिनभर बारिश से ब्यास उफान पर आ गई। दोपहर के समय सोलंग से लौटते वक्त कुछ लोग पुलिया को पार कर रहे थे। अचानक नदी के तेज बहाव से पुलिया ढह गई। इस हादसे में तीन लोग किसी तरह से नदी तट की ओर निकल गए, लेकिन दो किशोर पुलिया के साथ बह गए। इसका वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हुआ। सूचना मिलते ही उपमंडलाधिकारी मनाली डॉ. सुरेंद्र ठाकुर और उप पुलिस अधीक्षक मनाली हेम राज वर्मा मौके पर पहुंचे। प्रशासन ने दोनों किशोरों की तलाश के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू किया। देर शाम तक तीन टीमें बनाकर किशोरों की तलाश की गई, लेकिन कोई पता नहीं चल पाया।

 

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here