Himachal Weather Update, Heavy Rain Alert In Statem, Landslides Stalled Many Roads – Himachal Weather: हिमाचल में दो दिन भारी बारिश का अलर्ट, जगह-जगह भूस्खलन से 100 सड़कें बाधित

0
13

ख़बर सुनें

हिमाचल प्रदेश में दो दिन भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। मौसम विज्ञान केंद्र शिमला के अनुसार प्रदेश के कई भागों में 25 और 28 अगस्त को भारी बारिश का येलो अलर्ट है। पूरे प्रदेश में एक सितंबर तक मौसम खराब बना रहने की संभावना है। उधर, राज्य आपातकालीन केंद्र शिमला के अनुसार प्रदेश में जगह-जगह भूस्खलन से गुरुवार सुबह तक 113 सड़कों पर वाहनों की आवाजाही ठप रही। इसके अलावा 123 बिजली ट्रांसफार्मर और 13 पेयजल योजनाएं प्रभावित चल रही हैं। सबसे ज्यादा 68 सड़कें कुल्लू जिले में प्रभावित हैं। वहीं, चंबा में 22 और मंडी जिले में 19 सड़कें बाधित थीं। 

सरकार ने प्राकृतिक आपदा से नुकसान की विस्तृत रिपोर्ट मांगी
प्रदेश सरकार ने 29 जून से लेकर अब तक प्राकृतिक आपदा से हुए नुकसान की विभिन्न विभागों से विस्तृत रिपोर्ट मांगी है। इस संबंध में राज्य के राजस्व विभाग के प्रधान सचिव ओंकार शर्मा ने सभी विभागों को पत्र भी भेजा है। प्रदेश सरकार यह रिपोर्ट केंद्र सरकार को भेजेगी। राज्य सरकार के अभी तक के आंकड़ों के अनुसार प्रदेश में करीब 1220 करोड़ रुपये का नुकसान हो चुका है। इसकी एवज में राज्य को केंद्र से सिर्फ 190 करोड़ मिले हैं। केंद्र से दूसरी किस्त 190 करोड़ मांगी जा रही है। इस मानसून सीजन में अब तक भूस्खलन, बादल फटने व अन्य आपदाओं में 258 लोगों को जान गंवानी पड़ी है। 270 मवेशियों की मौत हुई है। जबकि 1658 रिहायशी मकान, दुकानें, गोशालाएं व घराट क्षतिग्रस्त हुए हैं। 

प्रमुख शहरों का न्यूनतम तापमान
शिमला में न्यूनतम तापमान 16.5, सुंदरगनर 21.7, भुंतर 20.3, कल्पा 13.7, धर्मशाला 20.2, ऊना 24.7, नाहन 23.1, केलांग 12.1, पालमपुर 20.0, सोलन 19.9, मनाली 16.8, कांगड़ा 22.6, मंडी 22.3, बिलासपुर 24.5, हमीरपुर 22.9, चंबा 21.1, डलहौजी 16.1, जुब्बड़हट्टी 19.6, कुफरी 15.2, रिकांगपिओ 17.5, कसौली 18.1 और पांवटा साहिब में 26.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है। 

विस्तार

हिमाचल प्रदेश में दो दिन भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। मौसम विज्ञान केंद्र शिमला के अनुसार प्रदेश के कई भागों में 25 और 28 अगस्त को भारी बारिश का येलो अलर्ट है। पूरे प्रदेश में एक सितंबर तक मौसम खराब बना रहने की संभावना है। उधर, राज्य आपातकालीन केंद्र शिमला के अनुसार प्रदेश में जगह-जगह भूस्खलन से गुरुवार सुबह तक 113 सड़कों पर वाहनों की आवाजाही ठप रही। इसके अलावा 123 बिजली ट्रांसफार्मर और 13 पेयजल योजनाएं प्रभावित चल रही हैं। सबसे ज्यादा 68 सड़कें कुल्लू जिले में प्रभावित हैं। वहीं, चंबा में 22 और मंडी जिले में 19 सड़कें बाधित थीं। 

सरकार ने प्राकृतिक आपदा से नुकसान की विस्तृत रिपोर्ट मांगी

प्रदेश सरकार ने 29 जून से लेकर अब तक प्राकृतिक आपदा से हुए नुकसान की विभिन्न विभागों से विस्तृत रिपोर्ट मांगी है। इस संबंध में राज्य के राजस्व विभाग के प्रधान सचिव ओंकार शर्मा ने सभी विभागों को पत्र भी भेजा है। प्रदेश सरकार यह रिपोर्ट केंद्र सरकार को भेजेगी। राज्य सरकार के अभी तक के आंकड़ों के अनुसार प्रदेश में करीब 1220 करोड़ रुपये का नुकसान हो चुका है। इसकी एवज में राज्य को केंद्र से सिर्फ 190 करोड़ मिले हैं। केंद्र से दूसरी किस्त 190 करोड़ मांगी जा रही है। इस मानसून सीजन में अब तक भूस्खलन, बादल फटने व अन्य आपदाओं में 258 लोगों को जान गंवानी पड़ी है। 270 मवेशियों की मौत हुई है। जबकि 1658 रिहायशी मकान, दुकानें, गोशालाएं व घराट क्षतिग्रस्त हुए हैं। 

प्रमुख शहरों का न्यूनतम तापमान

शिमला में न्यूनतम तापमान 16.5, सुंदरगनर 21.7, भुंतर 20.3, कल्पा 13.7, धर्मशाला 20.2, ऊना 24.7, नाहन 23.1, केलांग 12.1, पालमपुर 20.0, सोलन 19.9, मनाली 16.8, कांगड़ा 22.6, मंडी 22.3, बिलासपुर 24.5, हमीरपुर 22.9, चंबा 21.1, डलहौजी 16.1, जुब्बड़हट्टी 19.6, कुफरी 15.2, रिकांगपिओ 17.5, कसौली 18.1 और पांवटा साहिब में 26.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है। 

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here