Himachal Election 2022, Hot Seat Kasumpti, Challenge Of Breaking Congress Stronghold In Front Of Suresh Bhardw – हॉट सीट कसुम्पटी: सुरेश भारद्वाज के सामने कांग्रेस का गढ़ तोड़ने की चुनौति, अनिरुद्ध की नजर हैट्रिक पर

0
8

सार

कसुम्पटी विधानसभा हलका प्रदेश की हॉट सीटों में शुमार है। इस सीट पर शहरी विकास मंत्री सुरेश भारद्वाज के सामने कांग्रेस के गढ़ को तोड़ने की चुनौती है। पार्टी हाईकमान ने शहरी विस हलके से शिफ्ट कर उन पर यह भरोसा जताया है। 

 प्रत्याशियों के चेहरे साफ होने के साथ ही कसुम्पटी विधानसभा हलका प्रदेश की हॉट सीटों में शुमार है। इस सीट पर शहरी विकास मंत्री सुरेश भारद्वाज के सामने कांग्रेस के गढ़ को तोड़ने की चुनौती है। पार्टी हाईकमान ने शहरी विस हलके से शिफ्ट कर उन पर यह भरोसा जताया है। उनका अब सीधा मुकाबला कांग्रेस से लगातार दो बार विधायक रह अनिरुद्ध सिंह से है। विधायक अनिरुद्ध सिंह बदले समीकरणों में भी जीत की हैट्रिक लगाने के लिए कोर कसर नहीं छोड़ रहे हैं। दूसरी ओर, भाजपा के कद्दावर नेता सुरेश भारद्वाज पार्टी के भरोसे पर खरा उतरने के लिए सियासत के हर दांव-पेच के साथ मोर्चा संभाले हुए हैं। इस सीट से माकपा के कुलदीप सिंह तंवर और आम आदमी पार्टी से डा. राजेश चानना भी मैदान में हैं और चुनावी जंग में तीसरा कोण बनाने की कोशिश में हैं।   

कसुम्पटी विधानसभा क्षेत्र में राजपूत और ब्राह्मण मतदाताओं की संख्या सबसे ज्यादा है। कुल मतदाताओं में से करीब 33 फीसदी मतदाता आरक्षित श्रेणी से है 67 फीसदी अनारक्षित वर्ग के मतदाता है। यह हलका कांग्रेस  का गढ़ रहा है और यहां से भाजपा को हमेशा मजबूत प्रत्याशी की दरकार रही है। साल 2012 से पहले कसुम्पटी विधानसभा आरक्षित सीट थी। उस समय भी कांग्रेस के सोहन लाल विधायक थे। हालांकि, भाजपा के रूपदास कश्यप भी चुनाव जीत कर विधानसभा पहुंचे और मंत्री पद पाया। साल 2012 में सीट ओपन होने पर कांग्रेस के अनिरुद्ध सिंह पहली बार विधानसभा चुनाव लड़े और भाजपा प्रत्याशी को हराया। 

भाजपा कार्यकर्ताओं के बीच यहां टिकट के लिए मारा मारी रही जिसका सीधा फायदा कांग्रेस को मिलता रहा। टिकट न मिलने से नाराज नेता घर बैठ जाते या अनमने ढ़ंग से चुनाव प्रचार करते। इसका नतीजा साल 2012 के चुनाव में देखने को मिला जिसमें बीजेपी प्रत्याशी कांग्रेस प्रत्याशी के मुकाबले आधे वोट भी नहीं ले पाए। हालांकि, इस बार भाजपा दावा कर रही है कि वरिष्ठ मंत्री को चुनाव में उतारने के बाद  एकजुट होकर चुनाव लड़ा जा रहा है। दूसरी ओर कांग्रेस विधायक अनिरुद्ध सिंह के समर्थक भी जीते के लिए पूरी तरह आश्वस्त हैं। 

दस साल में कसुम्पटी विधानसभा के अंदर किए गए विकासात्मक कार्यों को लेकर फिर से जनता के बीच हैं। कुल मिलाकर कसुम्पटी विधानसभा चुनाव दिलचस्प मोड़ पर पहुंच चुका है। दोनों कही बड़ी पार्टियां जीत के लिए ऐड़ी-चोटी का जोर लगा रही हैं। कांग्रेस जहां ओपीएस, महंगाई, बेरोजगारी आदि ज्वलंत मुद्दों को लेकर जनता के बीच में हैं तो वहीं भाजपा विकास के नाम पर वोट मांग रही है।

मतदान की स्थिति
वर्ष 2012              वर्ष  2017
कांग्रेस 16929        कांग्रेस  22061
भाजपा 7043        भाजपा 12664
निर्दलीय 6466       माकपा 4698
माकपा 4823         —
कुल मतदाता    66,722 
पुरुष वोटर      34,442
महिला वोटर   32,280
 

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here