Himachal Election 2022 Bjp Congress Candidates Taking Feedback From Party Workers – Himachal Election: अब जीत और हार का आकलन लगाने में जुटे पार्टी नेता, हाईकमान भी ले रहे फीडबैक

0
5

हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022।

हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022।
– फोटो : अमर उजाला

ख़बर सुनें

हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव को लेकर बीते शनिवार को हुए मतदान के बाद अब पार्टी नेता और प्रत्याशी जीत-हार का आकलन करने में जुट गए हैं। रविवार को अवकाश के चलते कार्यकर्ताओं से बूथ आधार पर मतदाताओं का फीडबैक लिया। इसका गठजोड़ कर प्रत्याशी जीत और हार का गणित बैठा रहे हैं। भाजपा और कांग्रेस के केंद्रीय नेता भी प्रभारियों सह प्रभारियों और नेताओं से फोन पर संपर्क कर विधानसभा सीट वाइज आकलन कर हिमाचल प्रदेश में सरकार बनाने के गठजोड़ में लगे रहे। 

चुनावी थकान के बाद ज्यादातर भाजपा और कांग्रेस पार्टी के प्रत्याशियों ने अपने घरों में ही अपने कार्यकर्ताओं के साथ समय बिताया। पार्टी की ओर से जिन कार्यकर्ताओं की एजेंट के तौर पर पोलिंग बूथों पर ड्यूटियां लगाई गई थीं, वे प्रत्याशियों को मतदाताओं की लिस्ट वाइज फीडबैक देते रहे। कहां पोलिंग कम हुई और कहां ज्यादा, इसका गठजोड़ करने में लगे रहे।

भाजपा और कांग्रेस पार्टी के गढ़ माने जाने वाले क्षेत्रों का भी वोट वाइज आकलन किया गया। भाजपा के नेता और प्रत्याशी अपनी सरकार बना रहे हैं, जबकि कांग्रेस पार्टी बहुमत का दावा ठोक रही है। निर्दलीय उम्मीदवार भी जीत का दावा कर रहे हैं। इन नेताओं का गणित कितना सटीक बैठता है, इसका फैसला 8 दिसंबर को ईवीएम खोलने के बाद ही होगा।

विस्तार

हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव को लेकर बीते शनिवार को हुए मतदान के बाद अब पार्टी नेता और प्रत्याशी जीत-हार का आकलन करने में जुट गए हैं। रविवार को अवकाश के चलते कार्यकर्ताओं से बूथ आधार पर मतदाताओं का फीडबैक लिया। इसका गठजोड़ कर प्रत्याशी जीत और हार का गणित बैठा रहे हैं। भाजपा और कांग्रेस के केंद्रीय नेता भी प्रभारियों सह प्रभारियों और नेताओं से फोन पर संपर्क कर विधानसभा सीट वाइज आकलन कर हिमाचल प्रदेश में सरकार बनाने के गठजोड़ में लगे रहे। 

चुनावी थकान के बाद ज्यादातर भाजपा और कांग्रेस पार्टी के प्रत्याशियों ने अपने घरों में ही अपने कार्यकर्ताओं के साथ समय बिताया। पार्टी की ओर से जिन कार्यकर्ताओं की एजेंट के तौर पर पोलिंग बूथों पर ड्यूटियां लगाई गई थीं, वे प्रत्याशियों को मतदाताओं की लिस्ट वाइज फीडबैक देते रहे। कहां पोलिंग कम हुई और कहां ज्यादा, इसका गठजोड़ करने में लगे रहे।

भाजपा और कांग्रेस पार्टी के गढ़ माने जाने वाले क्षेत्रों का भी वोट वाइज आकलन किया गया। भाजपा के नेता और प्रत्याशी अपनी सरकार बना रहे हैं, जबकि कांग्रेस पार्टी बहुमत का दावा ठोक रही है। निर्दलीय उम्मीदवार भी जीत का दावा कर रहे हैं। इन नेताओं का गणित कितना सटीक बैठता है, इसका फैसला 8 दिसंबर को ईवीएम खोलने के बाद ही होगा।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here