GRAP-4 की पाबंदियों का फैसला वापस, अब दिल्ली जा सकेंगे BS-6 से नीचे के वाहन | Delhi AQI improved, Grap-4 restrictions decision back

0
7

चंडीगढ़14 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
ग्रेप-4 की पाबंदियां हटाए जाने की वजह दिल्ली में वायु प्रदूषण कम होना रहा। - Dainik Bhaskar

ग्रेप-4 की पाबंदियां हटाए जाने की वजह दिल्ली में वायु प्रदूषण कम होना रहा।

NGT ग्रेडेड रिस्पॉन्स एक्शन प्लान (GRAP-4) की सब कमेटी ने एयर क्वालिटी सुधारने के लिए लगाई गई रोकों का फैसला वापस ले लिया है। अब GRAP के पहले चरण से लेकर तीसरे चरण के तहत लगी रोक ही जारी रहेंगी। सब कमेटी की ओर से निर्देश दिए गए हैं वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) पर हर समय नजर रखनी जरूरी है। इससे हालात बिगड़ने पर तत्काल कार्रवाई करने में मदद मिलेगी।

क्यों हुआ फैसला वापस

ग्रेप-4 की पाबंदियां हटाए जाने की वजह दिल्ली में वायु प्रदूषण कम होना रहा। सब कमेटी की 6 नवंबर को हुई बैठक में देखा गया कि राष्ट्रीय राजधानी का AQI 339 तक पहुंच गया है। इसके बाद कमेटी ने लगाई गई पाबंदियों को हटाने का फैसला लिया।

पश्चिमी हवाओं का भी असर

दिल्ली सहित हरियाणा के भी शहरों में AQI सुधारने में पश्चिमी हवाओं ने भी बड़ा सहयोग किया है। पश्चिमी हवाओं के प्रभावों के कारण वायु प्रदूषण में कमी आई है। मौसम विभाग के अनुसार अगले 6 दिन तक मौसम की यही स्थिति बनी रहेगी। इस कारण से वायु प्रदूषण में और गिरावट आएगी।

दिल्ली जा सकेंगे BS-6 से नीचे के वाहन

ग्रेप-4 की पाबंदियां हटने के बाद अब बीएस-6 वाहनों पर लगी रोक भी हट गई है। दिल्ली सहित आसपास के शहरों में AQI खराब होने पर हरियाणा में सभी LMV बीएस-6 से नीचे के डीग्जरल वाहनों (केवल इमरजेंसी सेवाओं, मेडिकल व खाद्य सामग्री की ढुलाई करने वाले वाहनों को छोड़कर ) के चलाने पर रोक लगा दी गई थी।

शुरू हो पाएंगे ये औद्योगिक इकाइयां

AQI खराब हाेने के कारण बिजली व PNG की आपूर्ति वाली औद्योगिक इकाइयों को बंद कर दिया गया था। NGT द्वारा NCR में अप्रूव्ड फ्यूल की जारी सूची के अनुसार ही औद्योगिक इकाइयों को चलाने की अनुमति दी गई थी। रोक हटने के बाद फिर से इन औद्योगिक इकाइयों को शुरू करने में मदद मिलेगी।

एनएच का शुरू होगा निर्माण

भवन निर्माण, रिपेयर, माइनिंग, मिक्सर प्लांट, सड़क निर्माण, राष्ट्रीय राजमार्ग प्रोजेक्ट के सभी कार्यों पर लगी रोक को हटा दिया गया है। अब फिर से निर्माण कार्य शुरू कर दिया गया है। धूल न उड़ सके इसके लिए स्थानीय निकाय सफाई कर्मचारियों को पानी के छिड़काव के बाद ही झाड़ू लगाने के निर्देश दिए गए थे।

खबरें और भी हैं…

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here