Congress Ticket Contenders Showed Rebellious Attitude In Front Of Singhar – Himachal Congress: उमंग सिंघार के सामने कांग्रेस टिकट के दावेदारों ने दिखाए बगावती तेवर

0
8

ख़बर सुनें

हिमाचल प्रदेश के मंडी के गांधी भवन पहुंचे केंद्रीय स्क्रीनिंग कमेटी के सदस्य उमंग सिंघार के सामने कांग्रेस के टिकट के दावेदारों ने शक्ति प्रदर्शन कर अपना पक्ष रखा। सरकाघाट, द्रंग और सराज को लेकर माहौल गर्माया रहा। टिकट आवंटन से पहले ही दावेदारों के बगावती तेवर दिखे। सिंघार ने बंद कमरे में हर हलके के एक-एक दावेदार का पक्ष सुना और 100 से भी अधिक दावेदारों से उन्होंने मुलाकात की। जिले के सभी दस विधानसभा क्षेत्रों से दावेदार समर्थकों के साथ पहुंचे थे। शनिवार दोपहर करीब दो बजे तक यही क्रम चलता रहा। उधर, सुबह से ही गांधी भवन में दावेदारों व उनके समर्थकों का तांता लगना शुरू हो गया था। सरकाघाट के यदुपति ठाकुर गांधी भवन तक अपने समर्थकों के साथ पहुंचे। सेरी मंच से गांधी भवन तक रैली निकालते हुए समर्थकों ने यदुपति के पक्ष में जमकर नारेबाजी की। सरकाघाट से ही टिकट के दावेदार पवन ठाकुर और रंगीला राम राव भी भी अपने समर्थकों के साथ पहुंचे और अपना पक्ष रखा। यहां टिकट को लेकर घमासान मचा है और टिकट आवंटन के बाद बागवत की पूरी आशंका है।

उसी का ट्रेलर शनिवार को गांधी भवन में भी देखने को मिला। पूर्व केंद्रीय मंत्री पंडित सुखराम के पोते आश्रय शर्मा ने द्रंग से अपना पक्ष रखा। द्रंग कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कौल सिंह की सीट रही है। वह आठ बार इसी सीट से जीते हैं। अब आश्रय इस सीट से दावेदारी जताकर कांग्रेस के लिए चीजों को और पेचीदा कर रहे हैं। दूसरी ओर पूर्व मंत्री कौल सिंह की बेटी चंपा ठाकुर ने गांधी भवन में सदर सीट के लिए अपना पक्ष रखा। सदर के पैनल में सिंगल नाम चंपा का ही गया है, लेकिन अभी उन्हें टिकट मिलना तय नहीं है। सदर के भाजपा विधायक अनिल शर्मा की कांग्रेस में घर वापसी के बाद यदि उन्हें टिकट मिला तो चंपा भी बगावत का झंडा बुलंद कर सकती हैं। प्रकाश चौधरी ने भी टिकट को लेकर अपना पक्ष रखा। जोगिंद्रनगर से जीवन ठाकुर और अन्य दावेदार भी यहां पहुंचे थे। बता दें कि प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पास जिन कार्यकर्ताओं व नेताओं ने ऑनलाइन व ऑफलाइन टिकट के लिए आवेदन किया था, उन सभी ने उमंग सिंघार के दरबार में हाजिरी भरकर खुद को सशक्त उम्मीदवार बताया। दावेदारों की जमीनी हकीकत जानने के लिए सिंघार ने सभी दस ब्लॉकों के अध्यक्षों से अलग-अलग बैठक कर फीडबैक भी लिया। उमंग सिंघार अब शीर्ष नेतृत्व को अपनी रिपोर्ट सौंपेंगे।

वहीं, टिकट फाइनल करने वाली कांग्रेस की स्क्रीनिंग कमेटी के सदस्य धीरज गुज्जर ने जिला के पांच विधानसभा क्षेत्रों की सियासी नब्ज टटोली।  धीरज ने धर्मशाला, कांगड़ा, नगरोटा बगवां, शाहपुर, देहरा और जसवां प्रागपुर क्षेत्रों से आए टिकटार्थियों से बातचीत की। पांचों विधानसभा क्षेत्रों में कांग्रेस की टिकट के लिए आवेदन करने वाले सभी टिकटार्थी धीरज से कांग्रेस कार्यायल दाड़ी (धर्मशाला) में मिले। धीरज गुज्जर पांचों विधानसभा क्षेत्रों के ब्लॉक अध्यक्षों और कई पदाधिकारियों से भी मिले। देर रात तक धीरज गुज्जर की बैठक चलती रही।

खबर लिखे जाने तक कोई हंगामा बैठक में टिकटार्थियों या पदाधिकारियों ने नहीं किया। धीरज गुज्जर ने सभी पदाधिकारियों की बात सुनी। सूत्रों की मानें तो पांचों विधानसभा क्षेत्रों से कौन सा उम्मीदवार बेहतर हो, इसका फीडबैक गुज्जर ने बैठक में लिया। फीडबैक लेने के बाद अब स्क्रीनिंग कमेटी विधानसभा क्षेत्रों में अपने उम्मीदवारों के नाम तय कर लेगी। रविवार को पालमपुर, सुलह, जयसिंहपुर, ज्वालामुखी, बैजनाथ विधानसभा क्षेत्रों की टोह ली जाएगी। सोमवार को नूरपुर, इंदौरा, फतेहपुर, जवाली और मंगलवार को चंबा, डलहौजी, चुराह, भटियात हलकों के पदाधिकारियों के साथ गुज्जर बैठकें करेंगे। 

विस्तार

हिमाचल प्रदेश के मंडी के गांधी भवन पहुंचे केंद्रीय स्क्रीनिंग कमेटी के सदस्य उमंग सिंघार के सामने कांग्रेस के टिकट के दावेदारों ने शक्ति प्रदर्शन कर अपना पक्ष रखा। सरकाघाट, द्रंग और सराज को लेकर माहौल गर्माया रहा। टिकट आवंटन से पहले ही दावेदारों के बगावती तेवर दिखे। सिंघार ने बंद कमरे में हर हलके के एक-एक दावेदार का पक्ष सुना और 100 से भी अधिक दावेदारों से उन्होंने मुलाकात की। जिले के सभी दस विधानसभा क्षेत्रों से दावेदार समर्थकों के साथ पहुंचे थे। शनिवार दोपहर करीब दो बजे तक यही क्रम चलता रहा। उधर, सुबह से ही गांधी भवन में दावेदारों व उनके समर्थकों का तांता लगना शुरू हो गया था। सरकाघाट के यदुपति ठाकुर गांधी भवन तक अपने समर्थकों के साथ पहुंचे। सेरी मंच से गांधी भवन तक रैली निकालते हुए समर्थकों ने यदुपति के पक्ष में जमकर नारेबाजी की। सरकाघाट से ही टिकट के दावेदार पवन ठाकुर और रंगीला राम राव भी भी अपने समर्थकों के साथ पहुंचे और अपना पक्ष रखा। यहां टिकट को लेकर घमासान मचा है और टिकट आवंटन के बाद बागवत की पूरी आशंका है।

उसी का ट्रेलर शनिवार को गांधी भवन में भी देखने को मिला। पूर्व केंद्रीय मंत्री पंडित सुखराम के पोते आश्रय शर्मा ने द्रंग से अपना पक्ष रखा। द्रंग कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कौल सिंह की सीट रही है। वह आठ बार इसी सीट से जीते हैं। अब आश्रय इस सीट से दावेदारी जताकर कांग्रेस के लिए चीजों को और पेचीदा कर रहे हैं। दूसरी ओर पूर्व मंत्री कौल सिंह की बेटी चंपा ठाकुर ने गांधी भवन में सदर सीट के लिए अपना पक्ष रखा। सदर के पैनल में सिंगल नाम चंपा का ही गया है, लेकिन अभी उन्हें टिकट मिलना तय नहीं है। सदर के भाजपा विधायक अनिल शर्मा की कांग्रेस में घर वापसी के बाद यदि उन्हें टिकट मिला तो चंपा भी बगावत का झंडा बुलंद कर सकती हैं। प्रकाश चौधरी ने भी टिकट को लेकर अपना पक्ष रखा। जोगिंद्रनगर से जीवन ठाकुर और अन्य दावेदार भी यहां पहुंचे थे। बता दें कि प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पास जिन कार्यकर्ताओं व नेताओं ने ऑनलाइन व ऑफलाइन टिकट के लिए आवेदन किया था, उन सभी ने उमंग सिंघार के दरबार में हाजिरी भरकर खुद को सशक्त उम्मीदवार बताया। दावेदारों की जमीनी हकीकत जानने के लिए सिंघार ने सभी दस ब्लॉकों के अध्यक्षों से अलग-अलग बैठक कर फीडबैक भी लिया। उमंग सिंघार अब शीर्ष नेतृत्व को अपनी रिपोर्ट सौंपेंगे।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here