Confusion Over Big Paragliding Competition In Bir Billing Valley – Paragliding: हिमाचल की बीड़ बिलिंग घाटी में बड़ी पैराग्लाइडिंग प्रतियोगिता पर असमंजस

0
19

पैराग्लाइडिंग

पैराग्लाइडिंग
– फोटो : संवाद

ख़बर सुनें

पैराग्लाइडिंग के लिए विश्व प्रसिद्ध बीड़ बिलिंग घाटी में इस पैराग्लाइडिंग सीजन में किसी भी प्रतियोगिता के आयोजन को लेकर संशय की स्थिति है। अक्तूबर और नवंबर माह में संभावित चुनाव आचार संहिता के कारण पर्यटन विभाग की ओर से किसी भी प्रतियोगिता का आयोजन होता हुआ नहीं दिख रहा है।  पैराग्लाइडिंग के अब तक के इतिहास में चुनावी वर्ष में किसी भी प्रतियोगिता का आयोजन संभव नहीं हो सका है और इस बार भी घाटी किसी बड़ी प्रतियोगिता के आयोजन से महरूम रहेगी। पिछले पांच वर्षों के दौरान मात्र पहले वर्ष ही स्थानीय प्रशासन के प्रयासों से राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिता का आयोजन संभव हो सका है। अब तक घाटी में मात्र एक वर्ल्ड कप का आयोजन कांग्रेस कार्यकाल में तत्कालीन मंत्री सुधीर शर्मा के प्रयासों से संभव हो पाया है। इसके अतिरिक्त प्री वर्ल्ड कप स्तर की प्रतियोगिताएं आयोजित हो चुकी हैं।

इस बार घाटी में तीन वर्षों के लंबे अंतराल के बाद अंतरराष्ट्रीय स्तर के पायलटों के दस्तक देने की उम्मीद है। इसके साथ ही भारतीय सेना के तीनों अंगों के पैराग्लाइडर पायलटों की अक्तूबर माह के अंत में राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिता का आयोजन होगा और भारतीय सेना के बड़े अधिकारी समापन समारोह में भाग लेंगे। बीड़ बिलिंग में अंतरराष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिता होने से पर्यटन को बढ़ावा मिलता है, लेकिन इस तरफ अब तक प्रदेश के पर्यटन विभाग की ओर से किसी भी प्रकार की पहल नहीं हुई है। बीड़ होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष सतीश अबरोल का कहना है कि 15 अक्तूबर के बाद बीड़ बिलिंग में बड़ी संख्या में अंतरराष्ट्रीय पायलटों के आने की उम्मीद है। प्रदेश पर्यटन विभाग के जिला अधिकारी विनय ने बताया कि अब तक बीड़ बिलिंग में प्रतियोगिता के आयोजन को लेकर किसी भी प्रकार के दिशा निर्देश नहीं हैं।

विस्तार

पैराग्लाइडिंग के लिए विश्व प्रसिद्ध बीड़ बिलिंग घाटी में इस पैराग्लाइडिंग सीजन में किसी भी प्रतियोगिता के आयोजन को लेकर संशय की स्थिति है। अक्तूबर और नवंबर माह में संभावित चुनाव आचार संहिता के कारण पर्यटन विभाग की ओर से किसी भी प्रतियोगिता का आयोजन होता हुआ नहीं दिख रहा है।  पैराग्लाइडिंग के अब तक के इतिहास में चुनावी वर्ष में किसी भी प्रतियोगिता का आयोजन संभव नहीं हो सका है और इस बार भी घाटी किसी बड़ी प्रतियोगिता के आयोजन से महरूम रहेगी। पिछले पांच वर्षों के दौरान मात्र पहले वर्ष ही स्थानीय प्रशासन के प्रयासों से राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिता का आयोजन संभव हो सका है। अब तक घाटी में मात्र एक वर्ल्ड कप का आयोजन कांग्रेस कार्यकाल में तत्कालीन मंत्री सुधीर शर्मा के प्रयासों से संभव हो पाया है। इसके अतिरिक्त प्री वर्ल्ड कप स्तर की प्रतियोगिताएं आयोजित हो चुकी हैं।

इस बार घाटी में तीन वर्षों के लंबे अंतराल के बाद अंतरराष्ट्रीय स्तर के पायलटों के दस्तक देने की उम्मीद है। इसके साथ ही भारतीय सेना के तीनों अंगों के पैराग्लाइडर पायलटों की अक्तूबर माह के अंत में राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिता का आयोजन होगा और भारतीय सेना के बड़े अधिकारी समापन समारोह में भाग लेंगे। बीड़ बिलिंग में अंतरराष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिता होने से पर्यटन को बढ़ावा मिलता है, लेकिन इस तरफ अब तक प्रदेश के पर्यटन विभाग की ओर से किसी भी प्रकार की पहल नहीं हुई है। बीड़ होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष सतीश अबरोल का कहना है कि 15 अक्तूबर के बाद बीड़ बिलिंग में बड़ी संख्या में अंतरराष्ट्रीय पायलटों के आने की उम्मीद है। प्रदेश पर्यटन विभाग के जिला अधिकारी विनय ने बताया कि अब तक बीड़ बिलिंग में प्रतियोगिता के आयोजन को लेकर किसी भी प्रकार के दिशा निर्देश नहीं हैं।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here