As Soon As The Polling Is Over, Speculations Started Regarding The New Chief Secretary. – Himachal: हिमाचल में मतदान निपटते ही अब नए मुख्य सचिव को लेकर शुरू हुए कयास

0
5

मुख्य सचिव आरडी धीमान व आईएएस अधिकारी अली रजा रिजवी

मुख्य सचिव आरडी धीमान व आईएएस अधिकारी अली रजा रिजवी
– फोटो : संवाद

ख़बर सुनें

हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव का मतदान निपटते ही अब नए मुख्य सचिव को लेकर कयास लगना शुरू हो गए हैं। प्रदेश में नई सरकार का गठन करने के बाद मुख्य सचिव आरडी धीमान 31 दिसंबर, 2022 को सेवानिवृत्त होंगे। नया मुख्य सचिव बनने के लिए केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर गए आईएएस अधिकारी अली रजा रिजवी वरीयता में सबसे आगे हैं। हालांकि, भाजपा सरकार के कार्यकाल में बनाए गए तीन प्रधान सलाहकारों रामसुभग सिंह, निशा सिंह और संजय गुप्ता में भी मुख्य सचिव बनने की आस जगी है। आठ दिसंबर को प्रदेश में मतगणना होगी। नई सरकार का गठन 15 से 20 दिसंबर तक होने की संभावना है। ऐसे में वर्तमान मुख्य सचिव आरडी धीमान की अगुवाई में प्रशासनिक अमला नई सरकार के साथ भी काम करेगा।

31 दिसंबर को आईएएस कैडर 1988 के अधिकारी आरडी धीमान के सेवानिवृत्त होने के बाद एक जनवरी 2023 से प्रदेश को नया मुख्य सचिव मिलेगा। भारत सरकार में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय में विशेष सचिव के पद पर नियुक्त अली रजा रिजवी भी 1988 बैच के अधिकारी हैं। भाजपा सरकार ने रिजवी की जगह आरडी धीमान को मुख्य सचिव बनाया है। रिजवी की सेवानिवृत्ति वर्ष 2024 में होनी है। ऐसे में नई सरकार रिजवी को वरीयता के हिसाब से मुख्य सचिव नियुक्त कर सकती है। रिजवी के बाद वरीयता में भारत सरकार में शिक्षा सचिव के पद पर कार्यरत के संजय मूर्ति वरीयता में दूसरे और प्रदेश सरकार में अतिरिक्त मुख्य सचिव वित्त के पद पर कार्यरत प्रबोध सक्सेना वरीयता में तीसरे नंबर पर हैं।

जयराम सरकार के कार्यकाल में सात अधिकारी रहे मुख्य सचिव
जयराम सरकार के कार्यकाल में सात अधिकारी मुख्य सचिव के पद पर रहे। इनमें वीसी फारका, बीके अग्रवाल, अनिल खाची और रामसुभग सिंह बतौर मुख्य सचिव अपना कार्यकाल भी पूरा नहीं कर सके। विनीत चौधरी और डॉ. श्रीकांत बाल्दी ही मुख्य सचिव रहते हुए समय से सेवानिवृत्त हुए। वर्तमान मुख्य सचिव आरडी धीमान 31 दिसंबर 2022 को अपना कार्यकाल पूरा करेंगे।

कांग्रेस ने चौधरी को सुपरसीड कर की थी फारका की नियुक्ति
पूर्व की कांग्रेस सरकार ने वरीयता में आगे रहे आईएएस अधिकारी विनीत चौधरी को सुपरसीड कर वीसी फारका को मुख्य सचिव बनाया था। दिसंबर 2017 में जयराम सरकार ने सत्ता में आते ही वीसी फारका को हटाकर विनीत चौधरी को मुख्य सचिव नियुक्त किया। फारका को भाजपा सरकार ने प्रधान सलाहकार नियुक्त किया था। विनीत चौधरी ने अपना कार्यकाल पूरा किया था।

विस्तार

हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव का मतदान निपटते ही अब नए मुख्य सचिव को लेकर कयास लगना शुरू हो गए हैं। प्रदेश में नई सरकार का गठन करने के बाद मुख्य सचिव आरडी धीमान 31 दिसंबर, 2022 को सेवानिवृत्त होंगे। नया मुख्य सचिव बनने के लिए केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर गए आईएएस अधिकारी अली रजा रिजवी वरीयता में सबसे आगे हैं। हालांकि, भाजपा सरकार के कार्यकाल में बनाए गए तीन प्रधान सलाहकारों रामसुभग सिंह, निशा सिंह और संजय गुप्ता में भी मुख्य सचिव बनने की आस जगी है। आठ दिसंबर को प्रदेश में मतगणना होगी। नई सरकार का गठन 15 से 20 दिसंबर तक होने की संभावना है। ऐसे में वर्तमान मुख्य सचिव आरडी धीमान की अगुवाई में प्रशासनिक अमला नई सरकार के साथ भी काम करेगा।

31 दिसंबर को आईएएस कैडर 1988 के अधिकारी आरडी धीमान के सेवानिवृत्त होने के बाद एक जनवरी 2023 से प्रदेश को नया मुख्य सचिव मिलेगा। भारत सरकार में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय में विशेष सचिव के पद पर नियुक्त अली रजा रिजवी भी 1988 बैच के अधिकारी हैं। भाजपा सरकार ने रिजवी की जगह आरडी धीमान को मुख्य सचिव बनाया है। रिजवी की सेवानिवृत्ति वर्ष 2024 में होनी है। ऐसे में नई सरकार रिजवी को वरीयता के हिसाब से मुख्य सचिव नियुक्त कर सकती है। रिजवी के बाद वरीयता में भारत सरकार में शिक्षा सचिव के पद पर कार्यरत के संजय मूर्ति वरीयता में दूसरे और प्रदेश सरकार में अतिरिक्त मुख्य सचिव वित्त के पद पर कार्यरत प्रबोध सक्सेना वरीयता में तीसरे नंबर पर हैं।

जयराम सरकार के कार्यकाल में सात अधिकारी रहे मुख्य सचिव

जयराम सरकार के कार्यकाल में सात अधिकारी मुख्य सचिव के पद पर रहे। इनमें वीसी फारका, बीके अग्रवाल, अनिल खाची और रामसुभग सिंह बतौर मुख्य सचिव अपना कार्यकाल भी पूरा नहीं कर सके। विनीत चौधरी और डॉ. श्रीकांत बाल्दी ही मुख्य सचिव रहते हुए समय से सेवानिवृत्त हुए। वर्तमान मुख्य सचिव आरडी धीमान 31 दिसंबर 2022 को अपना कार्यकाल पूरा करेंगे।

कांग्रेस ने चौधरी को सुपरसीड कर की थी फारका की नियुक्ति

पूर्व की कांग्रेस सरकार ने वरीयता में आगे रहे आईएएस अधिकारी विनीत चौधरी को सुपरसीड कर वीसी फारका को मुख्य सचिव बनाया था। दिसंबर 2017 में जयराम सरकार ने सत्ता में आते ही वीसी फारका को हटाकर विनीत चौधरी को मुख्य सचिव नियुक्त किया। फारका को भाजपा सरकार ने प्रधान सलाहकार नियुक्त किया था। विनीत चौधरी ने अपना कार्यकाल पूरा किया था।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here