स्वामी जितेंद्रानंद सरस्वती बोले- अरविंद केजरीवाल हिंदुओं की बांटने की रणनीति अब सफल नहीं होगी | Saints angry over the demand of Lakshmi-Ganesh’s photo on the notes, Swami Jitendranand Saraswati said in Varanasi – Arvind Kejriwal’s strategy of dividing Hindus will no longer be successful

0
24

  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Varanasi
  • Saints Angry Over The Demand Of Lakshmi Ganesh’s Photo On The Notes, Swami Jitendranand Saraswati Said In Varanasi Arvind Kejriwal’s Strategy Of Dividing Hindus Will No Longer Be Successful

वाराणसी14 मिनट पहले

स्वामी जितेंद्रानंद सरस्वती।

आम आदमी पार्टी के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भारतीय करेंसी पर देवी लक्ष्मी और श्रीगणेश की तस्वीर लगाए जाने की मांग की है। इस पर अखिल भारतीय संत समिति ने नाराजगी जताई है। अखिल भारतीय संत समिति के महासचिव स्वामी जितेंद्रानंद सरस्वती ने बुधवार को वाराणसी में कहा कि अरविंद केजरीवाल का यह चेहरा देख सनातन धर्म के हम धर्माचार्य आश्चर्यचकित हैं।

अचानक आपकी छाती में हिंदुत्व के प्रेम के लिए दूध उतर आया। करेंसी पर गौरी और गणेश की फोटो छपे, यह हम नहीं चाहते हैं। सबके आराध्य और पूज्य हमारे लिए पूज्य हैं। अरविंद केजरीवाल हिंदुओं को बांटने की कोई भी राजनीति और रणनीति अब सफल नहीं होने वाली है।

सेक्युलर देश में इसकी कोई आवश्यकता नहीं

इंडियन करेंसी पर देवी लक्ष्मी और श्रीगणेश की फोटो छापने के अरविंद केजरीवाल की बात पर स्वामी जितेंद्रानंद सरस्वती ने कहा कि सेक्युलर देश में हम सनातन धर्माचार्यों को इसकी कोई आवश्यकता नहीं प्रतीत होती है। हमें यह कभी भी गवारा नहीं होगा कि मांस और मदिरा की दुकानों के गल्ले तक देवी लक्ष्मी और श्रीगणेश के चित्र युक्त नोट जाए। हमे यह भी गवारा नहीं होगा कि आप जैसा शराब का प्रिय मुख्यमंत्री हमारी देवी लक्ष्मी या श्रीगणेश को गलत स्थान तक पहुंचाए।

मौलानाओं का सरकारी वेतन बंद करिए

स्वामी जितेंद्रानंद सरस्वती ने कहा कि यदि आपका हिंदू प्रेम उमड़ा हुआ है तो दिल्ली दंगे के आरोपियों को चुपचाप पुलिस को सौंप दीजिए। फाइलों पर दस्तखत होने दीजिए। इससे भी ज्यादा हिंदू प्रेम उमड़ा है तो दिल्ली में नमाज पढ़वाने के लिए मौलवी और मौलानाओं को सरकार द्वारा दिया जा रहा वेतन बंद कराएं। या फिर, दिल्ली के मंदिरों के हिंदू पुजारियों को भी सरकारी कोष से वेतन दिलाएं। अन्यथा, अपना यह गिरगिट का रंग अपने पास रखिए।

खबरें और भी हैं…

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here