सर्दी-बुखार की वजह से पॉलीग्राफी टेस्ट अधूरा, आफताब को थाने से लेकर निकली पुलिस | Polygraphy test incomplete due to cold and fever, police took Aftab from police station

0
5

  • Hindi News
  • National
  • Polygraphy Test Incomplete Due To Cold And Fever, Police Took Aftab From Police Station

नई दिल्ली29 मिनट पहले

अफसर मेहरौली पुलिस स्टेशन से आफताब को लेकर निकले हैं। अभी साफ नहीं हुआ कि टेस्ट के लिए ले जाया गया है या फिर जंगलों में सर्चिंग के लिए।

श्रद्धा मर्डर केस के आरोपी आफताब अमीन पूनावाला का नार्को टेस्ट गुरुवार को भी संभव नहीं लग रहा है। आफताब को सर्दी-बुखार है और इसके बुधवार को उसका पॉलीग्राफी टेस्ट पूरा नहीं हो पाया है।

पॉलीग्राफी टेस्ट में देरी का मतलब यह है कि नार्को टेस्ट गुरुवार को नहीं हो सकता है। फोरेंसिक साइंस लेबोरेटरी के अफसर ने न्यूज एजेंसी PTI को बताया कि पॉलीग्राफी टेस्ट तभी जारी रह सकता है, जब आफताब की तबीयत सही हो।

हालांकि, आज आफताब को महरौली पुलिस स्टेशन से बाहर ले जाया गया है। अभी यह स्पष्ट नहीं हुआ है कि उसे महरौली या गुरुग्राम के जंगलों में सर्चिंग के लिए ले जाया गया है या फिर किसी टेस्ट या जांच के लिए।

आज के सबसे बड़ा अपडेट्स…

  • मीडिया रिपोर्ट्स में जांच के दस्तावेजों के हवाले से दावा किया जा रहा है कि आफताब ने पहले गला दबाकर श्रद्धा का मर्डर किया और इसके बाद उसके टुकड़े किए।
  • पुलिस सूत्रों के मुताबिक, श्रद्धा और आफताब का एक कॉमन फ्रेंड भी सामने आया है, जो ड्रग्स बेचा करता था। यह भी पता चला कि श्रद्धा और आफताब के बीच कई बार ब्रेकअप हुआ था, हालांकि दोनों बाद में सुलह कर साथ रहने लगते थे।
गिरफ्तारी के बाद 22 नवंबर को आफताब की यह पहली तस्वीर सामने आई थी। तब उसे पॉलीग्राफी टेस्ट के लिए ले जाया गया था।

गिरफ्तारी के बाद 22 नवंबर को आफताब की यह पहली तस्वीर सामने आई थी। तब उसे पॉलीग्राफी टेस्ट के लिए ले जाया गया था।

आज का सबसे बड़ा अपडेट: मुंबई पुलिस के नो एक्शन की जांच होगी
1. श्रद्धा का 2 साल पहले का शिकायत पत्र सामने आया

एक दिन पहले बुधवार को श्रद्धा की एक पुिलस कम्प्लेंट मीडिया में आई थी। 23 नवंबर 2020 की इस कम्प्लेंट में श्रद्धा ने पुलिस से कहा था कि आफताब ने उसे जान से मारने की कोशिश की। अगर पुलिस ने एक्शन नहीं लिया तो आफताब उसे टुकड़े-टुकड़े कर देगा। यानी मर्डर से 2 साल पहले श्रद्धा ने जो शिकायत की थी, वैसा ही आफताब ने किया। इस शिकायत पत्र के सामने आने के बाद मुंबई पुलिस पर सवाल उठे थे।

2. मुंबई पुलिस ने कहा- श्रद्धा ने ही शिकायत वापस ले ली
23 नवंबर 2020 को मुंबई की पालघर पुलिस को लिखे गए शिकायत पत्र पर महाराष्ट्र पुलिस ने बुधवार को ही जवाब दिया। DCP सुहास बावाचे ने कहा कि श्रद्धा की शिकायत पर उस वक्त वाजिब कार्रवाई की गई थी। बाद में श्रद्धा ने लिखकर दिया कि आफताब और उसके बीच जो भी विवाद था, वो सुलझ गया है और दोनों में सुलह हो गई है। इसके बाद हमने केस बंद कर दिया था।

3. फडणवीस बोले- शिकायत पर एक्शन लेते तो श्रद्धा बच सकती थी
महाराष्ट्र के डिप्टी चीफ मिनिस्टर देवेंद्र फडणवीस ने कहा- अगर वक्त रहते पुलिस एक्शन लेती तो श्रद्धा को बचाया जा सकता था। उन्होंने कहा कि हम इस बात की जांच कराएंगे कि कोई भी एक्शन क्यों नहीं लिया गया। मैंने वो पत्र देखा है और वो बेहद गंभीर है। मैं किसी पर भी आरोप नहीं लगाना चाहता हूं, लेकिन किसी शिकायत पर कोई एक्शन नहीं लिया गया है तो इसकी जांच जरूर होनी चाहिए।

श्रद्धा ने 2 साल पहले मुंबई पुलिस में शिकायत दी थी- आफताब टुकड़े-टुकड़े कर देगा

मीडिया रिपोर्ट्स में श्रद्धा के इस लेटर की तस्वीरें दिखाई जा रही हैं। इसमें श्रद्धा ने पुलिस से कहा है- आज आफताब ने मुझे मारने की कोशिश की।

मीडिया रिपोर्ट्स में श्रद्धा के इस लेटर की तस्वीरें दिखाई जा रही हैं। इसमें श्रद्धा ने पुलिस से कहा है- आज आफताब ने मुझे मारने की कोशिश की।

श्रद्धा ने 23 नवंबर 2020 को मुंबई की पालघर पुलिस को एक शिकायत पत्र लिखा था। उसने पुलिस को बताया था कि उसका लिव-इन पार्टनर आफताब उसे मारता-पीटता है। अगर वक्त पर एक्शन नहीं लिया, तो आफताब उसे टुकड़े-टुकड़े कर डालेगा। श्रद्धा ने आफताब के बर्ताव के बारे में उसकी फैमिली को भी बताया था, लेकिन उन्होंने कुछ नहीं किया। (श्रद्धा का पूरा लेटर पढ़ने और इससे जुड़ी जानकरियों के लिए यहां क्लिक करें…)

नार्को में देरी की वजह पॉलीग्राफी टेस्ट

  • 28 साल के आफताब के नार्को टेस्ट की इजाजत कोर्ट से मिल चुकी है। यह टेस्ट तभी होगा, जब यह निश्चित हो जाए कि आफताब भावनात्मक, मानसिक, मनोवैज्ञानिक और शारीरिक रूप से स्वस्थ है। उस स्थिति में उसका नार्को नहीं किया जा सकता है, जब शुरुआती जांच में आफताब अस्थिर या फिर अशांत हो।
  • आफताब का पहला पॉलीग्राफी टेस्ट मंगलवार को रोहिणी के FSL में हुआ था। इसे लाई डिटेक्टर टेस्ट भी कहा जाता है। करीब 6 घंटे तक आफताब से परिवार और उसके बारे में सवाल किए गए। इसके बाद केस से जुड़े कुछ सवाल हुए।
  • इसके बाद बुखार और सर्दी की वजह से बुधवार को उसका पॉलीग्राफी टेस्ट का दूसरा राउंड नहीं हो सका। टीम उसकी तबीयत सुधरने का इंतजार कर रही है। जांच अधिकारी और FSL की टीम को ही नार्को की िजम्मेदारी दी गई है।

श्रद्धा मर्डर केस से जुड़ी ये खबरें भी पढ़ें…

पीटने के 5 दिन बाद श्रद्धा को अस्पताल लाया आफताब:डॉक्टर बोले- चल भी नहीं पा रही थी

मुंबई के ओजोन अस्पताल के डॉ. शिवप्रसाद शिंदे ने मीडिया को बताया है कि 3 दिसंबर 2020 को श्रद्धा उनके पास इलाज कराने आई थी। उसके शरीर पर जो चोटें थीं, वो फिजिकल वॉयलेंस के चलते ही आती हैं, लेकिन उसने कुछ भी खुलकर नहीं बताया। पूरी खबर पढ़ें …

श्रद्धा का सिर ढूंढने की तलाश जारी, महरौली जंगल से अब तक 17 हड्डियां बरामद

रिपोर्ट्स के मुताबिक, दिल्ली पुलिस को आफताब ने बताया है कि उसने श्रद्धा का सिर दिल्ली के एक तालाब में फेंका है। इसके बाद दिल्ली पुलिस रविवार शाम छतरपुर जिले के मैदान गढ़ी पहुंची और यहां मौजूद एक तालाब खाली करा रही है। गोताखोरों को भी बुलाया गया। पूरी खबर पढ़ें…

पापा 25 की हूं, फैसले ले सकती हूं:पिता बोले- बात मान लेती तो जिंदा होती श्रद्धा

27 साल की लड़की को उसके लिव-इन पार्टनर ने किस बेरहमी से मारा और फिर उसके शरीर के 35 टुकड़े कर दिए, यह कहानी अपने आप में दिल दहलाने वाली है, लेकिन इसमें सबसे दुखद पहलू श्रद्धा के पिता का है। उन्हें इस बात का अफसोस है कि उनकी बेटी ने प्यार में जिद के चलते उनकी बात नहीं मानी। अगर मान ली होती तो आज वह जिंदा होती। पूरी खबर पढ़ें…

खबरें और भी हैं…

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here