‘वाइब्रेंट अफ्रीका-द राइजिंग रिदम’ आयोजित, उत्सव मनाने बड़ी संख्या में शामिल हुए लोग | Sri Sri Ravi Shankar African countries ‘Vibrant Africa – The Rising Rhythm’

0
33

नई दिल्लीएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

‘वसुधैव कुटुम्बकम’ के प्राचीन मंत्र को जीवंत करते हुए आर्ट ऑफ लिविंग के अफ्रीका चैप्टर ने ‘वाइब्रेंट अफ्रीका-द राइजिंग रिदम’ नामक भव्य सांस्कृतिक महोत्सव 2022 का आयोजन किया है। जिसमें वैश्विक आध्यात्मिक गुरु, गुरुदेव श्री श्री रविशंकर की उपस्थिति में सभी अफ्रीकी देशों के पारंपरिक लोक संगीतकार, गायक तथा अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त अफ्रीकी कलाकार अपनी कला को प्रस्तुत करने के लिए एक साथ आए और उत्सव मनाने के लिए एक वैश्विक परिवार के रूप में शामिल हुए।

श्री श्री रविशंकर अफ्रीकी देशों घाना, नाइजीरिया, युगांडा और तंजानिया की पहली यात्रा पर हैं। एक विनाशकारी महामारी के बाद मानवता के घाव भरने, एक खुशहाल, हिंसा मुक्त और तनाव मुक्त समाज बनाने के लिए गुरुदेव और उनके तीव्र आह्वान को शिक्षाविदों, राजाओं और विभिन्न राज्यों के शासकों और व्यापार और उद्योग जगत के नेता, अभिनेता, कलाकार और अनेक प्रभावशाली लोगों सहित जीवन के सभी क्षेत्रों के नेताओं से बेहद सकारात्मक प्रतिक्रिया मिली है।

घाना की अपनी पहली यात्रा पर, गुरुदेव का राष्ट्रपति एच.ई. नाना अकुफो-एडो, जिन्होंने अफ्रीका में आर्ट ऑफ लिविंग की पहल के लिए समर्थन दिखाया और देश में लोगों के मानसिक स्वास्थ्य व कल्याण के उत्थान के उद्देश्य से आयुर्वेद, कृषि, युवा कौशल प्रशिक्षण और जेल कार्यक्रमों के क्षेत्रों में कार्यक्रम शुरू करने के लिए आर्ट ऑफ लिविंग का स्वागत किया।

गुरुदेव को घाना में भारतीय उच्चायोग में राजनयिकों और सरकारी अधिकारियों को सम्बोधित करने व उनके लिए ध्यान के एक सत्र का नेतृत्व करने के लिए आमंत्रित किया गया था। उन्होंने स्वदेशी समुदाय के नेताओं से भी मुलाकात की और अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को इन नेताओं ने अपनी परंपराओं को जीवित रखने और उनका सम्मान करने के लिए किए गए भारी प्रयासों की सराहना करने और सीखने के लिए प्रोत्साहित किया।

गुरुदेव ने घाना सरकार से लोगों को तनाव से उबरने और सकारात्मकता फैलाने में मदद करने के लिए देश भर में हैप्पीनेस सेंटर स्थापित करने का भी आह्वान किया। हैप्पीनेस 3.0 नामक एक कार्यक्रम में, गुरुदेव ने कहा, “एक सुखी समाज का निर्माण न केवल सही परिस्थितियों के निर्माण पर निर्भर करता है, बल्कि उन परिस्थितियों की खोज के लिए सही संस्थानों के निर्माण पर भी निर्भर करता है।” गुरुदेव ने अकरा में घाना के उपराष्ट्रपति महामहिम महामुदु बावुमिया के साथ एकेडमिक सिटी यूनिवर्सिटी कॉलेज का उद्घाटन किया। छात्रों को पढ़ाई के साथ-साथ अपने मस्तिष्क और भावनाओं को संभालने में सक्षम बनाने के लिए आर्ट ऑफ लिविंग की कार्यशालाएं विश्वविद्यालय में प्रेरणा कार्यक्रमों का हिस्सा होंगी।

दो दिनों में गुरुदेव ने अभिनेत्री ना अशोरकर सहित अफ्रीका के विख्यात लोगों के साथ भी बातचीत की, जिसने प्रेम, प्रसन्नता और विश्व शांति जैसे विषयों पर गुरुदेव से बातचीत की। गुरुदेव ने नाइजीरियाई व्यापार समुदाय के प्रमुख हितधारकों की उपस्थिति में एक सीईओ गोलमेज का नेतृत्व किया जिसका शीर्षक था ‘महामारी के बाद के युग में कैसे जीवित रहें, पनपें और सफल हों’। डॉ. लैनरे ओलुसोला के साथ बातचीत में गुरुदेव ने नाइजीरिया में संगठनात्मक विकास, सामुदायिक विकास, मानव क्षमता निर्माण, मानसिकता बदलने और भावनात्मक लचीलापन विकसित करने जैसे कई मामलों पर चर्चा की।

इरु किंगडम के राजा ओबा अब्दुलवासिउ गबोलाहन लवाल ने हैप्पीनेस सेंटर के उद्घाटन के समय कहा, “मैं भारत के आर्ट ऑफ लिविंग के एक प्रतिनिधिमंडल की मेजबानी करके प्रसन्न हूँ, जिसका नेतृत्व शांति के वैश्विक राजदूत – गुरुदेव श्री श्री रविशंकर ने किया।” हैप्पीनेस सेंटर जो कि इरु भूमि में एक अनूठा स्वास्थ्य और कल्याण केंद्र है, मानसिक स्वास्थ्य और उचित जीवन शैली को बढ़ावा देने, शांति को बढ़ावा देने हेतु मानवता के लिए बनाया गया है।

आर्ट ऑफ़ लिविंग 2.3 मिलियन से अधिक अफ्रीकियों तक पहुँच चुका है और इसने 22 अफ्रीकी देशों को शांति अभियानों के माध्यम से जोड़ा है। संगठन 10 से अधिक वर्षों से नाइजीरिया में हैप्पीनेस और युवा नेतृत्व प्रशिक्षण कार्यक्रम पढ़ा रहा है और इसने लागोस, पोर्ट हरकोर्ट, कानो, कडुना, अबूजा, एनुगु और डेल्टा राज्यों में हजारों लोगों को प्रभावित किया है।

खबरें और भी हैं…

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here