यूक्रेन में तैनात पुतिन की ‘प्राइवेट सेना’, करती है सारे गंदे काम- जानें वैगनर ग्रुप के बारे में सब कुछ

0
9

हाइलाइट्स

वैगनर ग्रुप को लेकर रूसी अरबपति बिजनेसमैन ने बड़ा खुलासा किया.
पुतिन से नाराज रूसी बिजनेसमैन ने बताया कि वैगनर ग्रुप के प्रमुख का दबदबा किसी मंत्री से कम नहीं है.
अमेरिका की एक खुफिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि वैगनर ग्रुप में HIV पीड़ितों की भर्ती हो रही है.

रूस और यूक्रेन के बीच चल रहे भीषण युद्ध को 8 महीने से अधिक हो गए. लेकिन अभी तक दोनों देशों में से किसी ने भी हार नहीं मानी है. हालांकि पूरी दुनिया इस बात में हैरानी जता रही है कि आखिर रूस के मुकाबले बेहद कमजोर माने जाने वाला यूक्रेन इतने लंबे समय से कैसे युद्ध में टिका हुआ है. हालांकि इस लड़ाई में रूस को भी भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है. वहीं पुतिन ने अब एक ऐसा फैसला लिया है कि खुद रूस के लोगों के साथ-साथ सेना भी दहशत में है. रिपोर्ट के मुताबिक यूक्रेन के साथ युद्ध में रूस ने सैनिकों की कमी होते देख पुतिन ने प्राइवेट आर्मी (वैगनर ग्रुप) की मदद ले रखी थी.

इसी क्रम में एक अरबपति बिजनेसमैन ने दावा किया है कि वैगनर समूह के नेता का अब क्रेमलिन में एक मंत्री के रूप में उतना ही राजनीतिक प्रभाव है. द गार्जियन की एक रिपोर्ट के अनुसार, मिखाइल खोदोरकोव्स्की ने कहा है कि वैगनर समूह की पुतिन तक उतनी ही पहुंच थी, जितनी औपचारिक सरकारी अधिकारियों की थी. वैगनर 2014 में यूक्रेन में उभरा और पश्चिम द्वारा सीरिया और मध्य अफ्रीकी गणराज्य जैसे देशों में क्रेमलिन के ‘डर्टी वर्क’ करने का संदेह है.

यूक्रेन में सक्रिय है पुतिन की निजी आर्मी!
हालांकि इस आरोप को रूस ने हमेशा खारिज किया है. वर्तमान में, वैगनर यूक्रेन, सीरिया और कुछ अफ्रीकी देशों में सक्रिय है. यह आरोप लगाया गया है कि यह समूह यूक्रेन में आतंकवाद के अभियान में शामिल है, जिसमें हत्या, बलात्कार, बुनियादी ढांचे को निशाना बनाना और परमाणु सुविधाओं के आसपास विस्फोटक लगाना शामिल है. हालांकि, वैगनर समूह आधिकारिक तौर पर मौजूद नहीं है.

मंत्रियों के जैसे येवगेनी प्रिगोझिन का दबदबा
शैडो फोर्स की स्थापना क्रेमलिन से जुड़े व्यवसायी येवगेनी प्रिगोझिन ने की थी. मिखाइल खोदोरकोव्स्की ने कहा है कि नेता के साथ अपने व्यक्तिगत संबंधों के कारण क्रेमलिन में अन्य वरिष्ठ मंत्रियों के साथ प्रिगोझिन का प्रभाव बराबर था. उन्होंने कहा, ‘प्रिगोझिन का प्रभाव लगभग रूस के रक्षा मंत्री, या विदेश मंत्री के प्रभाव के बराबर है.’ उन्होंने कहा, ‘प्रिगोझिन, पुतिन के काफी करीब थे कि उन्हें राष्ट्रपति की ओर से क्षमा पर हस्ताक्षर करने की भी अनुमति दी गई थी ताकि उन्हें ‘अपराधों की गंभीरता के बावजूद’ जेलों से अपराधियों को भर्ती करने की अनुमति मिल सके.’

पुतिन की ‘निजी सेना’
वैगनर के लोग हाल के वर्षों में यूक्रेन, सीरिया, लीबिया, मध्य अफ्रीकी गणराज्य और माली में सक्रिय रहे हैं. आलोचक इसे रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन द्वारा नियंत्रित एक शैडो फोर्स के रूप में देखते हैं, जिसका इस्तेमाल फ्रंट-लाइन सेनानियों, प्रशिक्षकों और सलाहकारों को प्रदान करके विदेशों में रूसी हितों को बढ़ावा देने के लिए किया जाता है.

वैगनर में HIV पीड़ितों की हो रही है भर्ती!
संयुक्त राष्ट्र, पश्चिमी सरकारों और सहायता समूहों ने इस पर नागरिकों पर अत्याचार का आरोप लगाया है. हाल ही में, यूके के खुफिया अधिकारियों के हवाले से रिपोर्टों ने सुझाव दिया कि सैन्य कंपनी यूक्रेन युद्ध के लिए एचआईवी और हेपेटाइटिस सी सहित संक्रामक रोगों से पीड़ित रूसी कैदियों की भर्ती कर रही है.

Tags: Russia ukraine war, Vladimir Putin

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here