ब्रिटेन ने जताई यूक्रेन से हमदर्दी, कहा- रूस को G20 में बैठने का नैतिक अधिकार नहीं

0
9

लंदनः ब्रिटेन के विदेश मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने शुक्रवार को कहा कि रूस को 20 देशों के समूह (G20) में बैठने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है, जबकि वह यूक्रेन पर अपने आक्रमण के साथ दबाव बना रहा है. समाचार एजेंसी राॅयटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक प्रवक्ता ने कहा, ‘रूस को जी20 में बैठने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है जबकि यूक्रेन में उसकी आक्रामकता बरकरार है.’ ब्रिटेन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा ‘हम यह सुनिश्चित करने के लिए इंडोनेशिया के प्रयासों का स्वागत करते हैं कि रूस के युद्ध के प्रभावों पर G20 बैठकों में विचार किया गया है, साथ ही संकेत हैं कि यूक्रेन का प्रतिनिधित्व G20 लीडर्स समिट में राष्ट्रपति (वलोडिमिर) जेलेंस्की द्वारा किया जा सकता है.’

आपको बता दें कि इंडोनेशिया इस साल नवंबर में G20 शिखर सम्मेलन की मेजबानी करेगा. उसने कहा है कि रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग इस शिखर सम्मेलन में शामिल होंगे. इंडोनेशिया के राष्ट्रपति जोको विडोडो ने मीडिया से चर्चा में कहा, ‘शी जिनपिंग आएंगे. राष्ट्रपति पुतिन ने भी मुझसे कहा है कि वह आएंगे.’ दोनों बड़े देशों (रूस और चीन) के अमेरिका से चल रहे तनाव के बीच ऐसा पहली बार है, जब इंडोनेशिया के राष्ट्रपति ने G20 शिखर सम्मेलन के संबंध में शी और पुतिन के भाग लेने की पुष्टि की है.

जो बाइडेन, शी जिनपिंग और व्लादिमीर पुतिन एक मंच पर जुटेंगे
रूस और यूक्रेन के बीच इस साल 24 फरवरी से शुरू हुई जंग अब तक नहीं थमी है. इस बीच यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने कहा है कि जब तक व्लादिमीर पुतिन अपनी सेना को वापस नहीं बुलाते हैं, तब तक रूस के साथ शांति की संभावना नहीं है. उधर, रूस भी यूक्रेन का साथ देने वाले अमेरिका और ब्रिटेन पर भड़क गया है. उसने परमाणु हमले की धमकी दे दी है. इन सभी घटनाक्रमों के बीच यह देखना दिलचस्प होगा कि जो बाइडेन, शी जिनपिंग और व्लादिमीर पुतिन जब इंडोनेशिया में होने वाले जी-20 शिखर सम्मेलन के दौरान एक मंच पर जुटेंगे, तो कैसा नजारा होगा. हाल ही में ताइवान मुद्दे को लेकर अमेरिका और चीन के बीच भी तनाव काफी बढ़ गया है.

हालांकि, इंडोनेशियाई राष्ट्रपति विडोडो ने कहा कि बड़े देशों के बीच प्रतिद्वंद्विता वास्तव में चिंताजनक है. नवंबर में होने वाले जी20 शिखर सम्मेलन के दौरान जो बाइडेन पहली बार दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति यूं सुक-योल से मिलेंगे. इस सम्मेलन में जापान के प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा भी शामिल होंगे.  इस पूरे घटनाक्रम से परिचित क्रेमलिन के एक अधिकारी ने कहा कि व्लादिमीर पुतिन की व्यक्तिगत रूप से इस बैठक में भाग लेने की योजना है. सम्मेलन में शीर्ष नेताओं की शिरकत करने की खबर पर विडोडो ने कहा कि वह चाहते हैं, ‘यह क्षेत्र स्थिर, शांतिपूर्ण हो. ताकि हम आर्थिक विकास कर सकें. सिर्फ इंडोनेशिया ही नहीं अधिकतर एशियाई देश भी यही चाहते हैं.’

Tags: Russia, Ukraine, United kingdom

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here