बादल-कैप्टन के साथ चलती थीं 33 कारें, VVIP कल्चर के खिलाफ रही AAP सरकार में 9 गाड़ियां ज्यादा | Punjab CM Bhagwant Mann VVIP Convoy Video Goes Viral

0
18

चंडीगढ़5 घंटे पहले

पंजाब के CM भगवंत मान के काफिले का वायरल वीडियो।

VIP कल्चर खत्म करने का दावा करने वाली आम आदमी पार्टी (AAP) अब खुद इसकी वजह से लोगों के निशाने पर हैं। खासकर पंजाब के CM भगवंत मान। पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने VVIP कल्चर के मामले में पंजाब के पूर्व CM प्रकाश सिंह बादल और कैप्टन अमरिंदर सिंह को भी पीछे छोड़ दिया है। वजह है उनका लंबा-चौड़ा काफिला। पंजाब में CM भगवंत मान के काफिले में 15-20 नहीं बल्कि 42 गाड़ियां चलती हैं।

वर्ष 2007 से 2017 तक पंजाब के CM रहे प्रकाश सिंह बादल के काफिले में 33 कारें हुआ करती थीं। 2017 में कांग्रेस नेता कैप्टन अमरिंदर सिंह पंजाब के मुख्यमंत्री बने तो उनके काफिले में भी 33 कारें ही थीं। कैप्टन के शासनकाल के दौरान आम आदमी पार्टी के तमाम नेता और खुद भगवंत मान VVIP कल्चर को लेकर कांग्रेस और अकाली दल के नेताओं पर निशाना साधते रहे।

हालांकि सरकार बनने के महज 6 महीने के अंदर ही CM के काफिले में चलने वाली गाड़ियों की संख्या 33 से बढ़ाकर 42 कर दी गई। बादल और कैप्टन के मुकाबले इस समय भगवंत मान के काफिले में 9 गाड़ियां अधिक चल रही हैं।

पंजाब से गुजरता CM भगवंत मान का काफिला

पंजाब से गुजरता CM भगवंत मान का काफिला

इसी साल फरवरी में हुए पंजाब विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी को मिले रिकॉर्डतोड़ बहुमत के बाद भगवंत मान ने CM की कुर्सी संभाली। सरकार बनने के महीनेभर बाद तक भगवंत मान ने राज्य से VVIP कल्चर खत्म करने और तमाम पूर्व मुख्यमंत्रियों, पूर्व मंत्रियों, पूर्व सांसदों, पूर्व विधायकों, मौजूदा विधायकों के साथ-साथ अफसरों की सिक्योरिटी कम करने के नाम पर खूब वाहवाही लूटी। सरकार ने सोशल मीडिया पर इसे लेकर खूब प्रचार किया।

हालांकि समय बीतने के साथ ही AAP सरकार और इसके नेताओं पर VVIP बनने का असर साफ दिखने लगा। पार्टी के कई विधायक और नेता टोल प्लाजा तक पर धौंस जमाते नजर आए। अब लंबे-चौड़े काफिले की वजह से लोग CM भगवंत मान की चुटकी ले रहे हैं।

लोगों ने ली चुटकी-‘पंजाब के नए आदमी’

CM मान के इसी काफिले को लेकर सोशल मीडिया पर भी वीडियो अपलोड किए जा रहे हेँ। ऐसे ही एक वीडियो में पुलिस CM के काफिले के लिए रूट क्लियर करवा रही है और सड़क के दोनों ओर से लोगों को दूर रहने के लिए कह रही है। इसमें कई लोग उन्हें राष्ट्रपति कह रहे हैं तो कुछ कह रहे हैं, ‘ये हैं पंजाब के नए आम आदमी।’

VIP सुरक्षा देने में पंजाब का दूसरा नंबर

देश में VVIP लोगों को सिक्योरिटी देने से जुड़ी वर्ष 2019 की एक रिपोर्ट के मुताबिक, पश्चिम बंगाल इस मामले में पहले नंबर पर है जहां 3,142 लोगों को सिक्योरिटी दी गई। देश में दूसरे नंबर पर पंजाब है जहां 2,594 लोगों को VIP सुरक्षा दी गई। हालांकि पंजाब में मान सरकार ने 424 लोगों की सुरक्षा घटाई। इनमें विभिन्न दलों के नेता और दूसरे लोग थे।

सुरक्षा घटाने के अगले ही दिन मूसेवाला का मर्डर

मान सरकार के VIP लोगों की सुरक्षा घटाने की सूचना लीक हो गई। इसके अगले ही दिन 29 मई 2022 की शाम को गैंगस्टर लॉरेंस के गुर्गों ने पंजाब के मानसा में मशहूर पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला की हत्या कर दी। इस वारदात के बाद मान सरकार कटघरे में आ गई।

हाईकोर्ट ने दिया समीक्षा का आदेश

पंजाब के 424 वीआईपी की सुरक्षा घटाने या वापस लेने का मामला पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट पहुंचा तो अदालत ने पंजाब सरकार को सभी की सुरक्षा की नए सिरे से समीक्षा का आदेश दिया। पूर्व डिप्टी CM ओपी सोनी, बलबीर सिंह सिद्धू, गुरचरण सिंह बोपाराय, सुखविंदर सिंह, कृष्ण कुमार, देश राज दुग्गा, गुलजार सिंह रणिके, सुच्चा सिंह छोटेपुर समेत 45 लोगों ने सुरक्षा बढ़ाने की मांग को लेकर याचिकाएं दायर की थी।

पंजाब सरकार ने दिया घल्लूघारा दिवस का हवाला

पंजाब सरकार ने हाईकोर्ट में कहा कि 6 जून को घल्लूघारा दिवस था इसलिए मई में कुछ सुरक्षाकर्मी वापस बुलाए गए थे। 7 जून से पुरानी सुरक्षा बहाल कर दी गई। पंजाब सरकार ने सूचना सार्वजनिक होने के मामले की जांच की बात कही।

कांग्रेस के नेता प्रतिपक्ष प्रताप सिंह बाजवा

कांग्रेस के नेता प्रतिपक्ष प्रताप सिंह बाजवा

विपक्ष के निशाने पर

पंजाब विधानसभा में विपक्ष के नेता और कादियां के कांग्रेसी विधायक प्रताप सिंह बाजवा ने इसी VVIP कल्चर को लेकर AAP सरकार और मुख्यमंत्री भगवंत मान पर हमला बोला है। बाजवा के ट्वीट को री-ट्वीट करते हुए कांग्रेस विधायक सुखपाल खैहरा ने लिखा कि पहले भगवंत मान नेताओं का मजाक उड़ाते हुए उन्हें सलाह दिया करते थे कि जो लोग अतिरिक्त सुरक्षा चाहते हैं, वह `मुर्गीखाना खोलने जैसा काम क्यों नहीं करते। अब खुद भगवंत को 42 कारों की जरूरत पड़ रही है।

खबरें और भी हैं…

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here