पहले जानबूझकर विदेशी एजेंडा बढ़ाने का काम हुआ; हम गलतियां सुधार रहे | Narendra Modi India History | Lachit Borphukan’s 400th birth anniversary

0
5

  • Hindi News
  • National
  • Narendra Modi India History | Lachit Borphukan’s 400th Birth Anniversary

नई दिल्ली8 मिनट पहले

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि भारत के इतिहास को दबाया गया। पहले जानबूझकर विदेशी एजेंडा बढ़ाने का काम किया गया। भारत का इतिहास, सिर्फ गुलामी का इतिहास नहीं है। यह योद्धाओं का इतिहास है। अत्याचारियों के विरुद्ध अभूतपूर्व शौर्य और पराक्रम दिखाने का इतिहास है। हम इन गलतियों को सुधार रहे हैं।

PM बोले- दुर्भाग्य से हमें आजादी के बाद भी वही इतिहास पढ़ाया जाता रहा, जो गुलामी के कालखंड में साजिशन रचा गया था। आजादी के बाद जरूरत थी हमें गुलाम बनाने वाले विदेशियों के एजेंडों को बदला जाए, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। देश के हर कोने में मां भारती के वीर बेटे-बेटियों ने कैसे आतताइयों का मुकाबला किया, अपना जीवन समर्पित कर दिया। इसे जानबूझकर दबा दिया गया।

मोदी शुक्रवार को दिल्ली के विज्ञान भवन में असम के वीर सपूत लचित बरफुकान की 400वीं जयंती कार्यक्रम के समापन समारोह में बोल रहे थे। इस दौरान उन्होंने सेनापति लचित के योगदान को याद किया और देश के इतिहास को लेकर अपनी बातें रखीं।

ये तस्वीर दिल्ली के विज्ञान भवन की है। यहां PM मोदी ने वीर लचित को श्रद्धांजलि दी।

ये तस्वीर दिल्ली के विज्ञान भवन की है। यहां PM मोदी ने वीर लचित को श्रद्धांजलि दी।

PM ने सेनापति लचित के साहस को सराहा
PM ने कहा कि मैं असम की धरती को प्रणाम करता हूं, जिसने लचित जैसे वीर दिए। वीर लचित ने अपने जीवन में खूब साहस और वीरता दिखाई है। असम की धरती इसकी गवाह रही है। उन्होंने आगे कहा कि अगर कोई तलवार के जोर से हमें झुकाना चाहता है, हमारी पहचान को बदलना चाहता है तो हमें उसका जवाब भी देना आता है।

PM मोदी ने वीर लचित की तस्वीर के सामने दीप प्रज्ज्वलित किया और उनके साहस को खूब सराहा।

PM मोदी ने वीर लचित की तस्वीर के सामने दीप प्रज्ज्वलित किया और उनके साहस को खूब सराहा।

सेनापति लचित को कहा जाता है शिवाजी
लचित बरफुकन का जन्म 24 नवंबर 1622 को हुआ। वे अहोम साम्राज्य के प्रसिद्ध सेनापति थे। लचित को पूर्वोत्तर का शिवाजी भी कहा जाता है। क्योंकि उन्होंने शिवाजी की तरह मुगलों की कई बार रणनीति से हराया था। मुगलों को हराने वाले लचित की याद में हर साल असम में 24 नवंबर को लचित दिवस मनाया जाता है।

PM मोदी की अहम बातें …

1. कोई भी रिश्ता देश से बड़ा नहीं होता
PM मोदी ने कहा कि सेनापति लचित का जीवन प्रेरणा देता है कि हम परिवारवाद से ऊपर उठ देश के बारे में सोचें। उन्होंने कहा था कि कोई भी रिश्ता देश से बड़ा नहीं होता।

2. देश की गलतियों को हम सुधार रहे हैं
PM ने कहा कि लचित का जीवन हमें प्रेरणा देता है कि हम व्यक्तिगत स्वार्थों को नहीं देश हित को प्राथमिकता दें। इतिहास को लेकर, पहले जो गलतियां हुई हैं। अब देश उनको सुधार रहा है।

3. संस्कृति बचाने में भारत का हर युवा योद्धा
PM ने कहा कि जब किसी बाहरी ताकत से अपनी सांस्कृतिक विरासत को बचाने की बात आती है तो भारत का हर युवा योद्धा होता है।

शाह बोले- इतिहास फिर लिखा जाए
गृह मंत्री अमित शाह ने इतिहासकारों से भारत के इतिहास को फिर से लिखने के लिए कहा है। उन्होंने आश्वासन दिया है कि सरकार उनकी कोशिशों का समर्थन करेगी। शाह ने कहा कि हमारे इतिहास को तोड़-मरोड़कर पेश किया गया। अब हमें इसे ठीक करने की जरूरत है।

ICHR फिर से लिख रहा भारत का इतिहास
इंडियन काउंसिल ऑफ हिस्टॉरिकल रिसर्च (ICHR) ने इतिहास को ‘फिर से लिखने’ के लिए एक प्रोजेक्ट को लॉन्च किया है। प्रोजेक्ट के तहत भारत का इतिहास फिर से लिखा जाएगा। इसका मकसद है कि पहले जो भी झूठ बताया गया है, उसे खत्म करना है और फैक्ट्स के साथ इतिहास लिखना है।

ICHR की तरफ से ये काम शुरू हो गया है। इसके पहले हिस्से को मार्च 2023 में जारी कर दिया जाएगा। 100 से ज्यादा इतिहासकार इस प्रोजेक्ट पर काम कर रहे हैं।

4 रुपए के लिए बंधुआ मजदूर थे लचित के पिता

सेनापति लचित के पिता को 4 रुपए का कर्ज चुकाने के लिए बंधुआ मजदूर बनना पड़ा था। बाद में मोमाई के नेतृत्व क्षमता को देखते हुए अहोम साम्राज्य के दसवें राजा प्रताप सिंहा ने उन्हें अपना कमांडर इन चीफ बनाया। इसके बाद ये परिवार पूरी तरह से अपने राजा और अहोम के लिए समर्पित हो गया। वीर लचित की पूरी कहानी पढ़िए ….

खबरें और भी हैं…

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here