तुर्की ने सीरिया, इराक में किए हवाई हमले, कहा- हमारा उद्देश्य आतंकवाद का स्रोत नष्ट करना

0
3

हाइलाइट्स

तुर्की ने लिया इस्तांबुल में हुए विस्फोट का बदला
सीरिया-इराक में किए हवाई हमले, कुर्दों को बनाया निशाना
कहा- हमारा उद्देश्य है दक्षिणी सीमा को सुरक्षित करना

इस्तांबुल. तुर्की ने सीरिया और इराक के उत्तरी क्षेत्रों पर हवाई हमले कर कुर्द समूहों को निशाना बनाया है. कुर्द पिछले सप्ताह इस्तांबुल में हुए बम विस्फोट के लिए जिम्मेदार ठहराए गए हैं. तुर्की के रक्षा मंत्रालय ने रविवार को एक बयान में कहा कि लड़ाकू विमानों ने प्रतिबंधित कुर्दिस्तान वर्कर्स पार्टी (पीकेके) और सीरियन पीपुल्स प्रोटेक्शन यूनिट्स (वाईपीजी) के ठिकानों पर हमले किए. बयान के साथ एफ-16 विमान के उड़ान भरने की तस्वीरें और एक ड्रोन से हमले किए जाने का वीडियो फुटेज भी जारी किया गया. अभी, किसी भी समूह ने इस पर तत्काल कोई टिप्पणी नहीं की है.

मंत्रालय ने संयुक्त राष्ट्र चार्टर के अनुच्छेद 51 के तहत तुर्की के आत्मरक्षा के अधिकार का हवाला देते हुए शनिवार देर रात ‘क्लॉ-स्वॉर्ड’ नामक एक अभियान शुरू किया. इसने कहा कि इसके तहत उन क्षेत्रों को लक्षित किया गया, जिनका इस्तेमाल ‘‘आतंकवादी हमारे देश पर हमले करने के लिए करते हैं.’’ तुर्की ने कहा कि उसका प्रयास हमलों को रोकना, अपनी दक्षिणी सीमा को सुरक्षित करना और ‘‘आतंकवाद का स्रोत नष्ट करना’’ है.

विस्फोट में हुई थी 6 लोगों की मौत
ये हवाई हमले ऐसे समय किए गए हैं, जब 13 नवंबर को इस्तांबुल के बीचों-बीच हुए एक बम विस्फोट में छह व्यक्तियों की मौत हो गई और 80 से अधिक लोग घायल हो गए. तुर्की के अधिकारियों ने पीकेके और उसके सीरियाई सहयोगी वाईपीजी पर हमले का आरोप लगाया है. हालांकि, कुर्द समूहों ने इसमें संलिप्तता से इनकार किया है. अंकारा और वाशिंगटन दोनों पीकेके को एक आतंकवादी समूह मानते हैं, लेकिन वाईपीजी की स्थिति पर असहमत हैं.

Tags: International news, Terror Attack, World news

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here