डॉक्टर के खिलाफ बलात्कार का केस दर्ज करा पांच लाख रुपए की रकम वसूलने वाले साथी डॉक्टर व सहयोगी युवती गिरफ्तार | Companion doctor and associate girl arrested for recovering five lakh rupees by registering rape case against doctor

0
10

फरीदाबाद3 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
रुपए लेकर केस को करना चाहता था रफा दफा, लड़की को मोहरा बनाकर मोटी रकम वसूलने की बनाई थी योजना। - Dainik Bhaskar

रुपए लेकर केस को करना चाहता था रफा दफा, लड़की को मोहरा बनाकर मोटी रकम वसूलने की बनाई थी योजना।

बलात्कार का केस दर्ज करा एक साथी फिजियोथैरेपी डाॅक्टर से पांच लाख रुपए की रकम वसूलने वाले डॉक्टर और एक युवती को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। उनके कब्जे से दी गई रकम भी बरामद कर ली है। पीड़ित और आरोपी दोनों मित्र हैं। दोनों ने साझे में फिजियोथैरेपी सेंटर चलाने के लिए जगह तलाश की थी। पुलिस ने ये कार्रवाई डीसीपी के आदेश पर की। पुलिस अब पूरे मामले की जांच कर रही है।

ये है ब्लैक मेलिंग की पूरी कहानी

पलवल के गांव अहरवां निवासी रविेंद्र ने पुलिस काे दी शिकायत में कहा है कि वह खेतीबाड़ी का काम करते हैं। मेरा भतीजा प्रदीप रावत फिजियोथेरेपी का डाॅक्टर है। वह पवन अस्पताल सेक्टर -56 में नौकरी करता है। उसने एनआईटी-3 में डाॅक्टर विनोद कौशिक फिजियोथेरेपी क्लीनिक के सामने अपना खुद फिजियोथेरेपी क्लीनिक खोलने के लिए एक जगह देखी थी। डाॅक्टर विनोद कौशिक व प्रदीप रावत आपस में एक दूसरे के अच्छे जानकार हैं।

लड़की के जरिए बनाया शिकार

शिकायकर्ता का कहना है कि आरोपी विनोद कौशिक ने योजनाबद्ध तरीके से अपने पास काम करने वाली लड़की से वाट्सएप के माध्यम से प्रदीप रावत से बातचीत करने लगी। बाद में लड़की ने महिला थाना सेंट्रल में प्रदीप रावत के खिलाफ 18 अक्टूबर को दुष्कर्म का एक झुठा मुकदमा दर्ज करा दिया। जब हमने लड़की से बात की तो उसने कहा कि आप इस संबंध में डाॅ0 विनोद कौशिक से बात करें। विनोद कौशिक ने लड़की को अपने केबिन में बुलाकर बातचीत की और दोनों ने बलात्कार के मुकदमे को कैसिंल कराने की एवज में एक फ्लैट की मांग की। जब पीड़ित ने असमर्थता जाहिर की तो दोनों ने 5 लाख रुपये लेकर मुकदमा कैंसिल कराने में सहमत हो गये।

पुलिस ने योजना बनकर दोनों को पकड़ा

पीड़ित की शिकायत पर डीसीपी ने दोनों काे रंगेहाथ पकड़ने का आदेश दिया। इस पर एसजीएम नगर पुलिस ने योजना बनाकर 500-500 की दस गड्‌डी बनाकर उनके नंबर नोटकर आरोपी को देने के लिए रणनीति बनाई। पुलिस ने नोटों की गड्डी को प्लास्टिक की गुलाबी रंग की थैली में डालकर शिकायतकर्ता के हवाले किया गया। इसके बाद शिकायतकर्ता नोटों की गड्डी को लेकर कौशिक फिजियोथेरेपी के अन्दर पहुंचा और पैसे दे दिए। कुछ देर इंतज़ार करने के बाद शिकायतकर्ता क्लीनिक से बहार निकला और इशारा कर दिया। पुलिस टीम ने क्लीनिक में जाकर डॉक्टर कौशिक और लड़की को काबू कर लिया। नाम पता पूछने पर आरोपी ने अपना नाम डॉक्टर विनोद कौशिक निवासी 5ई-49 एनआइटी और लड़की निवासी जवाहर कॉलोनी बताया। केबिन की तलाशी में पॉलिथीन के अंदर से 500-500 के नोटों के 10 गड्डी बरामद हुई। पुलिस ने दोनों के खिलाफ केस दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया है। थाना प्रभारी संदीप कुमार का कहना है कि दोनों आरोपियों को कोर्ट में पेश किया गया जहां से उन्हें जमानत मिल गई।

खबरें और भी हैं…

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here