टिकट पाने के इच्छुक वरिष्ठ नेताओं को दे रहे हैं बायोडेटा | Giving resume to senior leaders who want to get tickets

0
5

नई दिल्लीएक दिन पहलेलेखक: धर्मेंद्र डागर

  • कॉपी लिंक
नामांकन को लेकर रविवार को निर्वाचन कार्यालयों में तैयारी पूरी कर ली गई। - Dainik Bhaskar

नामांकन को लेकर रविवार को निर्वाचन कार्यालयों में तैयारी पूरी कर ली गई।

दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) चुनाव की घोषणा के साथ ही राजनीतिक दलों के कार्यकर्ता अपने-अपने आकाओं के यहां हाजिरी लगा रहे है। इससे कार्यकर्ताओं को उम्मीद है कि उन्हें अपने आकाओं की मदद से एमसीडी चुनाव का टिकट मिल जाएगा। वहीं पार्टियों के प्रदेश कार्यालयों पर टिकट पाने के लिए कार्यकर्ताओं की भीड़ लगी हुई है। कई कार्यकर्ताओं ने तो टिकट मिलने से पहले ही अपने वकीलों से नामांकन के लिए कागजात तैयार करवा लिए हैं।

पार्टी कार्यालय पहुंच रहे कार्यकर्ताओं का कहना है कि उन्होंने अपना बायोडेटा जिलाध्यक्ष को दे दिए हैं। इसके अलावा वे पार्टी कार्यालय में बड़े नेताओं को भी देना चाहते हैं, ताकि कोई कसर ना रह जाए। इस दौरान भाजपा के एक पूर्व पार्षद का कहना है कि पिछली बार चुनाव से पहले अपना बॉयोडाटा लेकर पार्टी कार्यालय के बड़े नेता का दिया था ओर उन्होंने जीत हासिल की थी।

वहीं पार्टी कार्यालयों के मुताबिक इस बार चुनाव लड़ने से पहले अपने पांच साल के कामकाज का बायोडेटा लेकर आने काे कहा गया है। आप पार्टी कार्यालय के मुताबिक आप अकेली ऐसी पार्टी है जो सभी को एक समान मानकर ही टिकट देती है। चाहे आप पहले पार्षद भी रहे हो तब भी अपने कामकाज का पूरा हिसाब देना ही होता है और उसी के आधार पर टिकट दिया जाता है।

नामांकन को लेकर निर्वाचन कार्यालयों में तैयारी पूरी

एमसीडी प्रक्रिया सोमवार से निर्वाचन कार्यालयों में प्रत्याशी नामांकन कर सकते हैं। दिल्ली राज्य चुनाव आयोग ने नामांकन करने के लिए 7 से 14 नवंबर तक का समय दिया है। नामांकन पर्चों की जांच 16 नवंबर को की जाएगी। इसके बाद 19 नवंबर तक प्रत्याशी नामांकन से अपना नाम वापस ले सकते हैं। इससे पहले नामांकन को लेकर रविवार को निर्वाचन कार्यालयों में तैयारी पूरी कर ली गई। निर्वाचन कार्यालयों में सीसीटीवी कैमरे लगाने के साथ ही प्रत्याशियों के बैठने की भी व्यवस्था की गई है।

आयोग के मुताबिक प्रत्याशी नामांकन दाखिल करने के दौरान भीड़ को न लाएं और रैली आदि न निकालें। इसके अलावा कोई भी व्यक्ति नामांकन स्थल या उसके 100 मीटर के बाहर हथियार नहीं ले जा सकेगा। चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन करने वाले लोगों पर कठोर कार्रवाई की जाएगी। सभी पार्टियों को चुनाव अधिकारियों के नियमों का पालन करना जरूरी है।

भाजपा और आम आदमी पार्टी की रहेगी टक्कर

दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार है। ऐसे में आप की ओर से चलाई जा रही कई स्कीम, स्कूलों में बदलाव और दिल्ली मॉडल के चलते जैसे मुददों को लेकर जनता में जाएगी। आप पार्टी अपने आपको कट्टर ईमानदार बताती आई है। वहीं भाजपा दिल्ली मॉडल को निशाना बनाने के साथ-साथ आबकारी नीति पर नजर रहेगी।

दिल्ली में भाजपा कथित घोटालों को लेकर आप को बैकफुट पर लाने की कोशिश करेगी। जिस दिल्ली मॉडल की चर्चा केजरीवाल देश ही नहीं विदेशों में भी करते नहीं थकते उसी मॉडल पर भाजपा चोट करना चाहेगी। आबकारी और अब डीटीसी के माध्यम से भाजपा यह साबित करने में जुटी है कि केजरीवाल सरकार जिस कट्टर इमानदारी की दुहाई देती हुई नहीं थकती उसकी सच्चाई कुछ और है।

भाजपा केजरीवाल सरकार की कट्ट्रर ईमानदारी वाली बात झूठी और जनता को मूर्ख बनाने की कोशिश में रहेगी। लेकिन यह तो समय ही बताएगा कि कौन किस पर भारी पड़ेगा। बता दें कि एमसीडी के कुल 250 वार्ड के लिए मतदान होगा।

एमसीडी चुनाव के लिए वोटिंग 4 दिसंबर को होगी। 7 दिसंबर को मतगणना होगी। 250 वार्ड में से अनुसूचित जाति के लिए 42 सीटें आरक्षित हैं, जिसमें 21 सीट महिलाओं के लिए हैं। वहीं सामान्य वर्ग के 208 वार्ड में 50 प्रतिशत यानी 104 सीट महिलाओं के लिए आरक्षित की गई हैं।

खबरें और भी हैं…

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here