जस्टिस चंद्रचूड़ और जस्टिस हिमा कोहली की बेंच ने रात 9.10 बजे तक 75 मुकदमे निपटाए | Supreme Court bench of Justices DY Chandrachud Justices Hima Kohli heard cases on 30th september till 9.10 pm

0
18

  • Hindi News
  • National
  • Supreme Court Bench Of Justices DY Chandrachud Justices Hima Kohli Heard Cases On 30th September Till 9.10 Pm

40 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
जस्टिस चंद्रचूड़ ने 16 अगस्त को भी शाम 6:45 बजे तक सुनवाई की थी। - Dainik Bhaskar

जस्टिस चंद्रचूड़ ने 16 अगस्त को भी शाम 6:45 बजे तक सुनवाई की थी।

सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और हेमा कोहली की बेंच ने शुक्रवार रात 9:10 बजे तक मामलों की सुनवाई की। सुबह 10.30 बजे से बैठी इस बेंच ने शुक्रवार को लिस्टेड सभी मामलों की सुनवाई का फैसला किया था। सुप्रीम कोर्ट की रेगुलर टाइमिंग सुबह 10.30 बजे से शाम 4 बजे तक होती है। अगले हफ्ते दशहरे की छुट्टी के लिए कोर्ट बंद रहेगा। छुट्टियों से पहले आज लास्ट वर्किंग डे था।

वकीलों और स्टाफ का शुक्रिया किया
उठने से पहले बेंच ने वकीलों और कोर्ट स्टाफ का भी शुक्रिया अदा किया। बेंच ने कहा कि हमें खुशी है कि हम आप सभी को सुन पाए। हम अपने धैर्यवान कोर्ट स्टाफ के आभारी हैं। हम सभी कर्मचारियों को धन्यवाद देते हैं। वहीं एक वकील ने भी बेंच की तारीफ करते हुए कहा कि आप युवा वकीलों के लिए एक अच्छा उदाहरण स्थापित कर रहे हैं।

एडजर्नमेंट केवल दो ही कारण से होगा
शुक्रवार को लिस्टेड किए गए एक केस को वकील ने एडजर्न करवोन की मांग रखी। इस पर बेंच ने कहा कि वकील ही शिकायत करते हैं कि मामले सूचीबद्ध नहीं हैं, लेकिन जब उनके मामले सामने आते हैं तो स्थगन की मांग करते हैं। स्थगन केवल COVID-19 या परिवार में शोक के कारण मांगा जा सकता है। इसके अलावा नहीं।

पहले भी एक्स्ट्रा टाइम तक सुन गए हैं मामले
पिछले महीने जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की अध्यक्षता वाली सुप्रीम कोर्ट की एक और बेंच जिसमें जस्टिस एएस बोपन्ना भी शामिल थे, उसने मामलों की सुनवाई के लिए कोर्ट के रूटीन टाइम से ज्यादा समय तक बैठी थी। जस्टिस चंद्रचूड़ ने हाल ही में सुप्रीम कोर्ट में वकीलों के काम करने के तरीके में बदलाव का आह्वान किया था। उन्होंने वकीलों से यह महसूस करने के लिए कहा था कि कोर्ट का समय मूल्यवान है।

खबरें और भी हैं…

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here