गाजीपुर प्रशासन के अधिकारियों की लापरवाही सालों से नहीं जल रहीं लाइटें | Lights are not burning for years due to negligence of Ghazipur administration officials

0
135

गाजीपुर27 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

गंगा नदी पर बना हमीद सेतु जिले को बिहार से जोड़ने का जरिया है। इस सेतु पर कल्याण सिंह की सरकार में पीडब्ल्यूडी मंत्री रही शारदा चौहान के कार्यकाल में लाइट की व्यवस्था की गई। लेकिन वह लाइट मात्र कुछ दिन जलने के बाद आज पिछले कई सालों से शो पीस बना हुआ है। अधिकारियों की उदासीनता से गंगा नदी पर स्थित हमीद सेतु पर लगी स्ट्रीट लाइटें नहीं जल रही हैं। ऐसे में अंधेरे में गुजरने वाले राहगीर हादसे को लेकर दहशत में है।

पुल पर लगीं स्ट्रीट लाइटें।

पुल पर लगीं स्ट्रीट लाइटें।

रात में हादसे की रहती है आशंका

सेतु के उपर दोनों तरफ लगी दर्जनों स्ट्रीट लाइटें इसी लापरवाही के कारण शोपीश बनी हैं। राहगीरों ने मांग किया कि जल्द इस व्यवस्था को दुरूस्त किया जाए, जिससे राहगीरों को सहुलियतें हो सके। राहगीर राकेश सिंह ने बताया कि आवागमन के प्रमुख सेतु पर प्रकाश की व्यवस्था न किए जाने से काफी दिक्कत होती है। इसी का नतीजा है कि पुल पर आए दिन विभिन्न सड़क हादसे हो रहे हैं। बावजूद विभागीय अधिकारी एवं जनप्रतिनिधि पूरी तरह से उदासीन बने हुए हैं, जो हैरत वाली बात है।

स्ट्रीट लाइटें।

स्ट्रीट लाइटें।

राहगीर सोमेश्वर ने बताया कि रात के समय एक दूसरे वाहन और राहगीरों के गुजरते समय यह आशंका बनी रहती है कि कोई हादसा न हो जाये। इस पुल पर लगे लाइट को जलाने के लिए लोग कई बार धरना प्रदर्शन आमरण अनशन कर चुके फिर भी अधिकारियों के कानों पर आज तक जु नहीं रेंगा। नतीजा आज भी यह जिले का प्रमुख गंगा पुल रात होते ही अंधेरे की आगोश में चला जाता है।

खबरें और भी हैं…

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here