Home Delhi अमृता हॉस्पिटल, फरीदाबाद: आमजन को अच्छे स्वास्थ्य का उपहार देने के लिए एक उच्च-गुणवत्ता...

अमृता हॉस्पिटल, फरीदाबाद: आमजन को अच्छे स्वास्थ्य का उपहार देने के लिए एक उच्च-गुणवत्ता वाला चिकित्सा संस्थान | Faridabad- Amrita Hospital, A high-quality medical institution, 1300-bed, referral and teaching hospital.

0
13

फरीदाबादएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

जब उपचार की बात आती है, तो डॉक्टर्स चिकित्सा विज्ञान के तर्क के साथ अपने मरीजों के साथ आत्मिक संबंध की अभिव्यक्ति के एक नाजुक फॉर्मूले का संतुलन बनाते हैं। यदि किसी मरीज़ को करुणा के साथ सही इलाज मिलता है तो ठीक होने की राह तेज और स्वास्थ्यप्रद हो जाती है। हालांकि, काम के अधिक बोझ की वजह से, कभी-कभी चिकित्सा संस्थान मानवीय रूप के बजाय यांत्रिक रूप से काम करते हैं।

लोगों को भविष्य की उम्मीद पर आधारित सच्ची भलाई तक पहुंचने के लिए देखभाल और किफायती स्वास्थ्य सेवाओं की आवश्यकता है। अमृता अस्पताल, अम्मा के रूप में मशहूर माता अमृतानंदमयी देवी के प्रेम के दर्शन पर बनाया गया है। उनका मानना है कि सभी की पहुंच उन्नत और उच्च-गुणवत्ता वाली स्वास्थ्य सेवाओं तक होनी चाहिए, खासतौर पर गरीबों और वंचितों की।

अमृता हॉस्पिटल की स्थापना 1998 में अमृता इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेस के रूप में की गई थी। अमृता हॉस्पिटल, कोचि की पहचान आज दुनियाभर में गुणवत्तायुक्त स्वास्थ्य सेवाओं, , शिक्षा और शोध केंद्र के रूप में है। इसमें 1300 बिस्तरों का अत्याधुनिक रेफरल और शिक्षण हॉस्पिटल है। पिछले 25 वर्षों के दौरान, अमृता हॉस्पिटल ने 10 लाख से अधिक बाहरी मरीजों को, 70,000 से अधिक इनपेशेंट को गुणवत्तायुक्त किफायती स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान की हैं। इसके अलावा, 700 करोड़ रुपए से अधिक विशिष्ट रूप से स्वास्थ्य सेवाओं में चैरिटी के रूप में खर्च किए गए हैं। यहां के सर्जन हर साल 23,000 से अधिक ऑपरेशन करते हैं।

फरीदाबाद में चिकित्सा के क्षेत्र में शानदार उपलब्धि

बाल चिकित्सा OPD

2400 बिस्तरों के साथ, अमृता हॉस्पिटल फरीदाबाद भारत का सबसे बड़ा निजी अस्पताल होगा। यह विशाल चिकित्सा संस्थान 130 एकड़ में फैला हुआ है और इसमें 81 विशेषज्ञताएं और सात उत्कृष्टता केंद्र होंगे—ओंकोलॉजी, कार्डियक साइंस, न्यूरोसाइंस, गैस्ट्रो-साइंस, हड्डी रोग और आघात. ट्रांसप्लांट, और मातृ एवं शिशु देखभाल। अमृता अस्पताल में पूरे भारत ही नहीं बल्कि दुनियाभर के मरीजों को चिकित्सा उपलब्ध कराई जाएगी।

इस संस्थान में 534 बिस्तर क्रिटिकल केयर के लिए समर्पित होंगे, जो कि भारत में सर्वाधिक संख्या है, साथ ही 64 मॉड्यूलर ऑपरेशन थिएटर होंगे। यहां पर सबसे उन्नत इमेजिंग सर्विस भी संचालित होगी, एक फुली ऑटोमेटेड रोबोटिक लेबोरेटरी, उच्च-परिशुद्धता वाली रेडिएशन ओंकोलॉजी, सबसे अपडेटेड न्यूक्लियर मेडिसिन और क्लिनिकल सेवाओं के लिए अत्याधुनिक कार्डियक और इंटरवेंशनल कैथ लैब। मरीजों के त्वरित परिवहन के लिए अस्पताल के परिसर में ही एक हैलिपैड भी बनाया गया है। इसके अलावा 498 कमरों वाला एक गेस्ट हाउस भी है जहां पर मरीजों के अटेंडेंट रह सकते हैं।

डॉ. संजीव के सिंह

“यह वास्तव में एक विश्व-स्तरीय संस्थान होगा, जैसा कि देश में पहले किसी ने नहीं देखा होगा, विशालता के लिहाज से भी और चिकित्सा की उत्कृष्टता के लिहाज से भी।“ ये कहना है अमृता हॉस्पिटल फरीदाबाद के मेडिकल डायरेक्टर डॉ. संजीव के सिंह का।

“अत्याधुनिक चिकित्सा अनुसंधान पर सबसे अधिक ज़ोर दिया जाएगा, जहां पर 3 लाख वर्ग फीट की एक 7 मंज़िला इमारत में शोध के लिए समर्पित ब्लॉक होगा। इसमें विशिष्ट ग्रेड ए से लेकर डी तक GMP लैब होगी जहां नवीनतम डायग्नोस्टिक मार्कर, AI, ML बायोइन्फॉर्मेटिक्स इत्यादि पर फोकस किया जाएगा। हम चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में दुनिया के कुछ सबसे बड़े हॉस्पिटल और यूनिवर्सिटी के साथ शोध में सहयोग को लेकर भी चर्चा कर रहे हैं।

हेल्थकेयर टेक्नोलॉजी के साथ रोज़गार भी

इस भव्य और विशालतम अस्पताल में हजारों लोगों के लिए रोज़गार के नए अवसर पैदा होंगे। खुलने पर, यहां फरीदाबाद और आसपास के इलाकों के लगभग 2000 से ज्यादा लोगों को प्रत्यक्ष रूप से और अप्रत्यक्ष स्टाफ के रूप में 2000 अन्य लोगों को रोजगार मिलेगा। पूरी तरह संचालन शुरू हो जाने के बाद इस अस्पताल में स्टाफ की संख्या लगभग 10,000 होगी और 800 से अधिक डॉक्टर्स होंगे।

हॉस्पिटल वार्ड

अमृता हॉस्पिटल का एक और उल्लेखनीय पहलू यह है कि इसे बनाने में पर्यावरण को कम से कम प्रभावित करने का प्रयास किया गया है। इसमें न्यूनतम कार्बन फुटप्रिंट और ज़ीरो वेस्ट डिस्चार्ज के साथ पेपरलेस सुविधाएं जोड़ी गई हैं। संस्थान में रेन वाटर हारवेस्टिंग सिस्टम, प्रभावी जल फिटिंग्स और रिसाइकल किए गए पानी के जरिए पानी की आपूर्ति की जाएगी। पीने के पानी की खपत में भी उल्लेखनीय रूप से लगभग 42% की कमी लाई जाएगी। पर्यावरण संरक्षण की दिशा में एक और कदम उठाते हुए अमृता हॉस्पिटल ने इलेक्ट्रिक वाहनों का नेटवर्क बनाया जा रहा है साथ ही प्रदूषण कम करने के लिए एक प्रभावी साइट और वेस्ट मैनेजमेंट सिस्टम तैयार किया गया है।

बाल चिकित्सा OPD 2 उद्घाटन समारोह

अमृता हॉस्पिटल, फरीदाबाद का उद्घाटन माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा 24 अगस्त 2022 को किया जाएगा। श्री माता अमृतानंदमयी देवी (अम्मा) भी अपनी उपस्थिति से समारोह की शोभा बढ़ाएंगी। हरियाणा के माननीय राज्यपाल श्री बंडारू दत्तात्रेय और हरियाणा के माननीय मुख्यमंत्री श्री मनोहरलाल खट्टर भी अन्य गणमान्य लोगों के साथ इस समारोह में शामिल होंगे।

सभी चीज़ों से बढ़कर मानवता में विश्वास

अमृता हॉस्पिटल, फरीदाबाद ने माता अमृतानंदमयी मठ के मानव सेवा संबंधी गतिविधियों के इतिहास में एक नया अध्याय शुरू किया है। अम्मा का जीवन ज़रूरतमंद लोगों की सेवा के लिए समर्पित है। उन्होंने हमेशा प्रयास किया है कि लोगों की पांच मूलभूत आवश्यकताओं की पूर्ति हो सके — भोजन, आवास, स्वास्थ्य सेवाएं, शिक्षा और आजीविका।

सामाजिक-आर्थिक पिरामिड के सबसे निचले स्तर पर मौजूद लोगों को किस प्रकार सशक्त बनाया जाए, इसको लेकर अम्मा की परिकल्पना का विस्तार बाकी समाज को भी प्रभावित करता है। अमृता हॉस्पिटल के मामले में, इसका अर्थ है कि हर वर्ग और क्षेत्र के लोगों को विश्वसनीय, उच्च-गुणवत्ता वाली और किफायती स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान की जा सकें। इस लक्ष्य के साथ, अमृता हॉस्पिटल फरीदाबाद 1998 में शुरू हुई अमृता हॉस्पिटल की निःस्वार्थ विरासत को आगे बढ़ाएगा।

खबरें और भी हैं…

Source link

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

%d bloggers like this: